काबुल: अफगानिस्तान में तालिबान आतकियों के हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे है. तालिबान आतंकवादियों ने देश के उत्तरी हिस्से में अलग-अलग हमले कर अफगान सुरक्षा बलों को निशाना बनाया, जिसमे कम से कम 37 लोगों की मौत हो गई. तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कुंदुज़ और जोजजान प्रांतों में हुए हमलों की जिम्मेदारी ली है. कुंदुज़ प्रान्त में प्रांतीय परिषद के प्रमुख मोहम्मद युसूफ अयूब ने बताया कि दश्ती आर्ची जिले में एक सुरक्षा नाके पर हुए हमले में सुरक्षा बल के कम से कम 13 कर्मी मारे गए और अन्य 15 लोग घायल हो गए. गोलीबारी रविवार देर रात शुरू हुई और सोमवार सुबह तक जारी रही. Also Read - अफगान तालिबान प्रमुख का अनोखा आदेश-एक से ज्यादा शादी बनती है मुसीबत, ना करें ज्यादा शादी

Also Read - संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में तालिबान, लीबिया पर प्रतिबंध समिति की अध्यक्षता करेगा भारत

अफगानिस्तान: काबुल एयरपोर्ट पर इस्लामिक स्टेट का आत्मघाती हमला, 14 की मौत और 60 घायल Also Read - अफगान सरकार और तालिबान शांति वार्ता को दिशानिर्देशित करने के लिए इस्लामी कानून पर सहमत

बता दें कि पिछले सप्ताह बाघलान प्रांत में इसी तरह की घटना में 20 अफगान जवान मारे गए थे और कई अन्य घायल हुए थे.

जोजजान प्रान्त के प्रांतीय पुलिस प्रमुख जनरल मोहम्मद जवाजानी ने बताया कि तालिबान ने खामियाब जिले में विभिन्न दिशाओं से हमला किया. इसके चलते अफगान बलों को जिला मुख्यालय खाली करना पड़ा ताकि कोई नागरिक हताहत नहीं हो. दोनों ओर से हुई गोलीबारी में कम से कम 8 पुलिसकर्मी मारे गए और तीन घायल हो गए. मुठभेड़ में तालिबान के 7 सदस्य भी मारे गए.

हक्कानी नेता की मौत, अफगानिस्तान में लंबे समय से फैला रहा था आतंक

इस बीच समांगन प्रांत के दारा सूफ जिले के प्रांतीय प्रवक्ता ने अपने क्षेत्र में तालिबान के हाथों 14 स्थानीय अफगान पुलिसकर्मी और सरकार समर्थक लड़ाकों के मारे जाने की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि अन्य छह लोग घायल भी हुए हैं.

जिला प्रमुख नसरुद्दीन नजारी सहादी ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ को बताया, “तालिबान आतंकवादियों द्वारा दश्त-ई-अरची जिले में सरकारी कार्यालयों और स्थानीय बाजार के पास बंदूकों और ग्रनेड से सुरक्षा जांच चौकियों पर हमला करने के बाद सोमवार तड़के ये संघर्ष हुए.”

अफगानिस्तान: तालिबान ने 150 से ज्यादा लोगों को बनाया बंधक, महिलाएं और बच्चे भी शामिल