Afghanistan Latest Update: तालिबान एक बार फिर से अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज हो चुका है बस इसका औपचारिक ऐलान बाकी है. तालिबान के एक अधिकारी ने कहा है कि विद्रोही संगठन जल्द ही काबुल स्थित राष्ट्रपति परिसर से अफगानिस्तान को इस्लामी अमीरात बनाने की घोषणा करेगा.Also Read - तालिबान ने दर्जनों हेलीकॉप्टर व अन्य सैन्य उपकरणों का क्या किया, खुद बताया

बता दें कि ग्यारह सितंबर 2001 के आतंकी हमलों के बाद, अमेरिका नीत बलों द्वारा अफगानिस्तान से तालिबान को अपदस्थ करने के लिए शुरू किए गए हमलों से पहले भी आतंकी संगठन ने युद्धग्रस्त देश का नाम इस्लामी अमीरात अफगानिस्तान रखा हुआ था. तालिबान के अधिकारी ने कहा कि अफगानिस्तान को जल्द ही काबुल स्थित राष्ट्रपति परिसर से इस्लामी अमीरात बनाने की घोषणा की जाएगी. Also Read - UN में अपने प्रतिनिधि को भेजना चाहता है Taliban, सोहेल शाहीन को बनाया गया नया राजदूत

अशरफ गनी अफगानिस्तान छोड़ ताजिकिस्तान गए, संसद अध्यक्ष गए इस्लामाबाद 

अशरफ गनी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हमदुल्ला मुहिब और राष्ट्रपति फजल महमूद फाजली के प्रशासनिक कार्यालय के प्रमुख के साथ अफगानिस्तान से ताजिकिस्तान के लिए रवाना हुए. कुछ विधायक इस्लामाबाद भी भाग गए हैं. इससे पहले, अफगान संसद के अध्यक्ष मीर रहमान रहमानी, यूनुस कनुनी, मुहम्मद मुहाक, करीम खलीली, अहमद वली मसूद और अहमद जिया मसूद इस्लामाबाद भाग गए, अफगान मीडिया ने बताया. राष्ट्रीय सुलह के लिए उच्च परिषद के प्रमुख अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने एक वीडियो क्लिप में कहा कि पूर्व अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अफगानिस्तान छोड़ दिया. Also Read - बाइडन ने संयुक्त राष्ट्र में कहा- अमेरिका अफ़ग़ानिस्तान से वापस लौटा, अब कोई नया युद्ध नहीं चाहता

काबुल हवाईअड्डा वाणिज्यिक उड़ानों के लिए बंद कर दिया गया : अधिकारी

अमेरिकी सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि काबुल हवाईअड्डे को वाणिज्यिक उड़ानों के लिए बंद कर दिया गया है क्योंकि वहां से लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए सैन्य विमान उड़ान भर रहे हैं. वाणिज्यिक उड़ानें बंद होने से तालिबान के शासन से डर कर अफगानिस्तान से भागने का प्रयास करने वालों का अंतिम रास्ता भी बंद हो गया है.

अफगानिस्तान के हालात पर करीबी नजर रख रहा भारत, काबुल से कर्मचारियों को निकालने को तैयार

भारत ने काबुल से अपने सैकड़ों अधिकारियों और नागरिकों को निकालने के लिए आकस्मिक योजनाएं बनायी हैं. दरसअल, तालिबान के रविवार सुबह राजधानी काबुल में प्रवेश करने की खबरों के बाद वहां लोगों में डर पैदा हो गया है. इस बीच, विद्रोहियों द्वारा हमले तेज किये जाने के बाद रविवार को अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर चले गए हैं. अफगानिस्तान के ‘तुलू’ न्यूज की खबर के अनुसार गनी और उनके करीबी साथी लगभग सभी बड़े शहरों और प्रांतीय राजधानियों पर तालिबान के कब्जे और राजधानी काबुल में उसके प्रवेश के बाद देश छोड़कर चले गए हैं.

अपने कर्मचारियों और भारतीय नागरिकों की जान जोखिम में नहीं डालेगा भारत

घटनाक्रम पर नजर रख रहे लोगों ने कहा कि भारत काबुल में भारतीय दूतावास के अपने कर्मचारियों और भारतीय नागरिकों की जान जोखिम में नहीं डालेगी तथा जरूरत पड़ने पर आपात स्थिति में उन्हें वहां से निकालने के लिए योजनाएं बना ली गयी हैं. उन्होंने बताया, ‘‘सरकार अफगानिस्तान में तेजी से बदल रहे घटनाक्रमों पर करीबी नजर रख रही है. हम काबुल में भारतीय दूतावास में अपने कर्मचारियों की जान खतरे में नहीं डालेंगे.’’ हालांकि, अफगानिस्तान में तेजी से हो रहे घटनाक्रम पर भारत की ओर से कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं आई है.

भारतीय वायु सेना का विमान तैयार!

यह पूछे जाने पर कि काबुल से भारतीय कर्मचारियों और नागरिकों को कब निकाला जाएगा, इस पर उन्होंने कहा कि जमीनी हालात को देखते हुए फैसले लिए जाएंगे. समझा जाता है कि भारतीय वायु सेना के सैन्य परिवहन विमान सी-17 ग्लोबमास्टर के एक बेड़े को लोगों तथा कर्मचारियों को निकालने के लिए तैयार रखा गया है. काबुल से प्राप्त खबरों के अनुसार, तालिबान के लड़ाकों ने शहर के बाहरी इलाकों में प्रवेश कर लिया है जिससे निवासियों में डर और घबराहट पैदा हो गयी है.

तालिबान का अफगानिस्तान पर कब्जा

पिछले कुछ दिनों में तालिबान ने अफगानिस्तान के ज्यादातर हिस्सों पर कब्जा जमा लिया है. उसने कंधार, हेरात, मजार-ए-शरीफ और जलालाबाद जैसे शहरों समेत 34 में से 25 प्रांतीय राजधानियों पर कब्जा जमा लिया है. अफगान मीडिया ने कार्यवाहक रक्षा मंत्री बिस्मिल्लाह मोहम्मदी के हवाले से कहा कि राष्ट्रपति गनी ने देश में ‘संकट’ को हल करने का अधिकार राजनीतिक नेताओं को सौंप दिया है.

(इनपुट भाषा)