Taliban take Herat फगानिस्तान में अफगान सुरक्षा बलों और तालिबान के बीच भीषण लड़ाई के साथ स्थिति बद से बदतर होती जा रही है. तालिबान ने ने अफगानिस्तान के तीसरे सबसे बड़े शहर हेरात पर भी कब्जा कर लिया है और वहां से अफगान सेना पीछे हट चुकी है. तालिबान ने हेरात के पुलिस हेडक्वॉर्टर पर भी कब्जा कर लिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हेरात में पुलिस हेडक्वार्टर पर कब्जे के लिए तालिबान को किसी विरोध का सामना नहीं करना पड़ा. वहीं, तालिबान के प्रवक्ता ने ट्वीट किया, ”दुश्मन भाग गए… दर्जनों सैन्य वाहन, हथियार और विस्फोटक मुजाहिद्दीन के हाथ लगे हैं.”Also Read - Bihar High Alert: बिहार के 13 जिलों में जारी हुआ हाईअलर्ट, भीड़भाड़ वाले जगह और रेलवे स्टेशन निशाने पर!

बताया जा रहा है कि आतंकी संगठन तालिबान के लोग राजधानी काबुल के पास तक पहुंच गए हैं. इससे पहले तालिबान ने राजधानी काबुल के पास स्थित सामरिक प्रांतीय शहर गजनी पर भी कब्जा कर लिया है. अब अफगानिस्तान के कुल 10 से 11 प्रांतिया राजधानी तालिबान के कब्जे में हो गई हैं. Also Read - तालिबान ने महिलाओं का मंत्रालय हटाया, पूरी तरह से पुरूष सदस्यों वाले मंत्रालय का किया गठन

बुधवार को तालिबान ने राजधानी काबुल से 140 मील उत्तर में प्रमुख अफगान शहर पुल-ए-खुमरी पर कब्जा कर लिया. विद्रोहियों और स्थानीय अधिकारियों के अनुसार गार्जियन ने इसकी सूचना दी. शहर के दो अधिकारियों ने गार्जियन को बताया कि मंगलवार को भारी लड़ाई के बाद अधिकारियों और सुरक्षा बलों ने अपने परिसर को छोड़ दिया. इसके बाद तालिबान का इसपर कब्जा हो गया. Also Read - Afghanistan: US ने काबुल में ड्रोन हमले को बताया भूल, माना 10 नागरिक मारे गए थे, IS आतंकी नहीं

ट्विटर पर तालिबान के एक प्रवक्ता ने भी बागलान प्रांत की राजधानी शहर पर कब्जा करने का दावा किया. सोशल मीडिया पर तस्वीरों में शहर के फाटकों पर तालिबान का झंडा और शहर के अंदर विद्रोही लड़ाके दिखाई दे रहे हैं. पिछले दो महीनों के दौरान तालिबान ने तेजी से अपने नियंत्रण वाले क्षेत्र का विस्तार देश के लगभग 65 प्रतिशत हिस्से में किया है, जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों का एक बड़ा हिस्सा भी शामिल है. देश की प्रांतीय राजधानियों का एक तिहाई हिस्सा खतरे में है.