सिडनी: एप्पल के साथ काम करने का सपना देखने वाले एक स्कूली बच्चे ने कंपनी के कंप्यूटर सिस्टम में सेंध लगा दी. बहरहाल, कंपनी का कहना है कि ग्राहकों से जुड़े डेटा से कोई समझौता नहीं हुआ है. विक्टोरिया की बाल अदालत को बताया गया कि किशोर ने एपल की बड़ी और शक्तिशाली डेटा प्रोसेसिंग प्रणाली मेनफ्रेम में अपने मेलबर्न स्थित घर से सेंध लगाई और 90 जीबी की सुरक्षित फाइलों को डाउनलोड किया. Also Read - उर्वशी रौतेला का फेसबुक अकाउंट हैक, पुलिस में दर्ज की शिकायत

‘द एज’के मुताबिक, लड़के की उम्र तब 16 साल थी और उसने एक वर्ष के भीतर सिस्टम तक कई बार पहुंच बनाई. वह एपल का प्रशंसक था और कंपनी के साथ काम करना चाहता था.
एप्पल ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि उसकी टीमों ने ”अनाधिकृत पहुंच का पता लगाया, इसे रोका और कानून प्रवर्तन को इस घटना की सूचना दी.” पुलिस ने लड़के के घर में पिछले वर्ष छापा मारा था और वहां से हैक की गई फाइलें प्राप्त की. लड़के ने जुर्म कबूल लिया है और अगले महीने मामला फिर से अदालत में आ सकता है जहां उसकी सजा पर फैसला होगा. Also Read - इस शॉर्ट फिल्म में नजर आएंगी हिना खान, अपने किरदार को लेकर किया खुलासा

एफबीआई और ऑस्ट्रेलियाई संघीय पुलिस, द एज की रिपोर्ट में शामिल होने के बाद एक अंतरराष्ट्रीय जांच शुरू की गई. संघीय पुलिस ने कहा कि वह इस मामले पर टिप्पणी नहीं कर सका क्योंकि यह अभी भी अदालत के समक्ष है. एज ने कहा कि पुलिस ने पिछले साल लड़के के घर पर छापा मारा और हैकिंग फाइलें और निर्देश “हैकी हैक हैक” नामक फ़ोल्डर में सहेजे गए. Also Read - अपनी क्यूट स्माइल से फैंस के दिलों में राज करती हैं टीवी की ये बहू, ब्लू ड्रेस में शेयर की Pics

एक अभियोजक ने कहा, “दो एप्पल लैपटॉप जब्त किए गए थे और सीरियल नंबरों ने उन उपकरणों के सीरियल नंबरों से मेल खाया जो आंतरिक सिस्टम तक पहुंचे थे.”
उन्होंने कहा कि एक मोबाइल फोन और हार्ड ड्राइव भी जब्त किए गए थे, जिनके आईपी पते ने उल्लंघन में पाया था.