जलालाबाद: अफगानिस्तान के अशांत पूर्वी क्षेत्र में आज बंदूकधारियों ने शिक्षा विभाग के एक परिसर पर हमला किया, जिसमें कम से कम दस लोगों की मौत हो गई. हालांकि सुरक्षा बलों ने इस हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया. यह हमला देश में सरकारी इमारतों को निशाना बनाकर जारी आतंकी हमलों में से एक है.Also Read - ICC T20 World Cup 2021 Points Table: Scotland निकला भारत-न्यूजीलैंड से आगे, सेमीफाइनल की ओर Pakistan

Also Read - टी20 विश्व में पहली जीत के बाद बोले अफगानिस्तान के कप्तान नबी- आगे भी जारी रखेंगे ऐसा प्रदर्शन

Also Read - टी20 विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन कर अफगानिस्तान के लोगों को खुशी देना चाहते हैं मोहम्मद नबी

नंगरहार प्रांत के गवर्नर के प्रवक्ता अताउल्ला खोग्यानी ने एएफपी को बताया कि जलालाबाद शहर पर दूसरी बार हुए इस आतंकवादी हमले में पांच अन्य जख्मी हुए हैं. कई कर्मचारी अब तक इमारत में फंसे हुए हैं. सुरक्षा बल परिसर से आतंकवादियों को खदेड़ने और कर्मचारियों को वहां से सुरक्षित बाहर निकालने का प्रयास कर रहे हैं. यह स्पष्ट नहीं है कि कितने हमलावर या कर्मचारी परिसर के अंदर मौजूद हैं. खोग्यानी ने बताया कि मरने वालों में विभाग का एक सुरक्षा गार्ड भी शामिल है.जलालाबाद के स्वास्थ्य निदेशक नजीबुल्ला कामावाल ने अब तक पांच घायलों को अस्पताल लाये जाने की पुष्टि की है. हमले की अब तक किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है.

‘जवाबी’ आयात शुल्क अमेरिका-चीन के व्यापार को तबाह करेगा: चीन

अधिकतर हमलों की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट समूह ने ली

हाल के सप्ताह में नगंरहार प्रांत की राजधानी में आतंकवादी हमलों में इजाफा देखा गया है. अधिकतर हमलों की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट समूह ने ली है. मंगलवार को शहर में एक आत्मघाती हमले में कम से कम 12 लोगों की मौत हो गयी थी. हमले में एक पेट्रोल स्टेशन को आग के हवाले कर दिया गया. आज का यह हमला राष्ट्रपति अशरफ गनी के ब्रसेल्स रवाना होने के एक दिन बाद हुआ. गनी नाटो शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिये ब्रसेल्स गये हैं.

आतंकवादी हमले में दस लोग घायल

जलालाबाद में शिक्षा विभाग पर आतंकी हमले की घटना के ठीक एक महीने बाद आज यह हमला हुआ. घटना में एक आत्मघाती बम हमलावर ने विभाग के प्रवेश द्वार पर खुद को बम से उड़ा लिया, जिसके बाद सुरक्षा बलों एवं बंदूकधारियों के बीच गोलीबारी हुई. कम से कम 10 लोग घायल हुए. हमले से डरे-सहमे कई लोग भवन की खिड़की से कूद गये. लंबे समय से पाकिस्तान पर अफगान तालिबान का समर्थन करने और इसके नेताओं को पनाहगाह मुहैया कराने के आरोप लगते रहे हैं. हालांकि पाकिस्तान इन आरोपों को खारिज करता है. इसके बदले में पाकिस्तान अफगानिस्तान पर पाकिस्तानी तालिबान को संरक्षण देने का आरोप लगाता है.  (इनपुट एजेंसी)