नई दिल्ली: पाकिस्तान भले ही अमेरिका और भारत समेत दुनिया भर में यह दिखाने की कोशिश करता रहा हो कि उसने आतंकी हाफिज सईद के संगठनों को बैन कर दिया हो लेकिन हाल ही में एक वीडियो सामने आया है जिसने एक बार फिर पाकिस्तान के झूठ को बेनकाब कर दिया है. इस वीडियो से पता चलता है कि पाकिस्तान अब तक प्रतिबंधित आतंकी संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) और फलाह-ए-इंसानियत (एफआईएफ) को आर्थिक मदद पहुंचा रहा है. मुंबई हमले के मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज के प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इनसानियत के कई दफ्तर और चैरिटी अब भी पाकिस्तान में खुलेआम चल रहे हैं.

हाफिज के संगठनों के दफ्तर हाफिज के संगठनों के दफ्तर पाकिस्तान के भावलपुर, रावलपिंडी, लाहौर, शेखुपुरा, मुल्तान, पेशावर, हैदराबाद, सुक्कूर और पाक अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद में चल रहे हैं. इन चैरिटी संगठनों का नेतृत्व आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद के इशारे पर हो रहा है. हाल ही में ऐसी खबर सामने आई थी कि पाकिस्तान सरकार आतंकी सरगना हाफिज-सईद की जमात-उद-दवा से जुड़ी सभी चैरिटी संस्थाओं को बैन कर सकती है.

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र ने इन दोनों आतंकी संगठनों को अंतर्रराष्ट्रीय आतंकी समूह (ग्लोबल थ्रेट) करार दिया है. संयुक्त राष्ट्र ने हाफिज सईद को 2012 में आतंकवादी घोषित कर दिया था, साथ ही उस पर 1 करोड़ का इनाम भी रखा है. शुक्रवार को ग्लोबल मनी लांड्रिंग पर नजर रखने वाली एजेंसी फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने एक बार फिर से तीन साल बाद पाकिस्तान को आतंकी संगठन को वित्तीय सहायता पहुंचाने वाली लिस्ट में डाल दिया गया है.