काबुल. अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में तड़के इस्लामिक स्टेट समूह के बंदूकधारियों और आत्मघाती हमलावरों ने यहां स्थित एक सैन्य अकादमी परिसर पर हमला कर दिया, जिसमें 11 सैनिकों की मौत हो गई और 16 घायल हो गये. हाल के दिनों में काबुल में हुआ यह तीसरा सबसे बड़ा हमला है. हाल के वर्षों में काबुल में हुए कई घातक हमलों ने पहले से ही युद्ध से त्रस्त लोगों को भयावह संकट में धकेल दिया है और तालिबान और आईएस के हमले भी लगातार बढ़ते जा रहे हैं. 

काबुल में विस्फोट में 63 लोगों की मौत, 151 घायल, तालिबान ने ली हमले की जिम्मेदारी

काबुल में विस्फोट में 63 लोगों की मौत, 151 घायल, तालिबान ने ली हमले की जिम्मेदारी

Also Read - भारत ने भूकंप प्रभावित अफगानिस्तान को सबसे पहले भेजी राहत सामग्री, दो प्लेन काबुल पहुंचे

Also Read - भारत ने अफगानिस्तान में फिर स्थापित की राजनयिक उपस्थिति, काबुल में ‘तकनीकी टीम’ तैनात की

रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि आज एक अफगान सैन्य बटालियन पर किये गये हमले में कम-से-कम 11 सैनिकों की मौत हो गई और 16 घायल हो गये. रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता दौलत वजीरी ने एएफपी को बताया, ‘दो हमलावरों ने खुद को उड़ा लिया और दो को हमारे सुरक्षा बलों ने ढेर कर दिया और एक को जिंदा पकड़ा गया है.’ उन्होंने कहा कि मुठभेड़ समाप्त हो चुकी है. Also Read - अफगानिस्तान में मिला Amitabh Bachchan का कार्बन कॉपी, पहली नजर में आप भी नहीं कर पाएंगे फर्क

अधिकारियों ने बताया कि एक रॉकेट और दो कलाश्निकोव राइफल और कम-से-कम एक आत्मघाती जैकेट से लैस हमलावारों ने मार्शल फहीम सैन्य अकादमी के निकट सेना के एक बटालियन पर हमला करने का प्रयास किया, जहां उच्च रैंकिंग वाले अधिकारियों को प्रशिक्षित किया जाता है. अकादमी के एक अधिकारी ने एएफपी को बताया कि उन्हें विस्फोट और गोलीबारी की आवाज सुनाई दी थी, जबकि अन्य प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सुबह के लगभग 5:00 बजे पहला धमाका हुआ.

अफगानिस्तान के एक सुरक्षा सूत्र ने कहा कि बंदूकधारियों ने शहर के पश्चिमी बाहरी इलाके में स्थित इस भारी सुरक्षा वाले परिसर में प्रवेश नहीं किया था. इन क्षेत्रों में सुरक्षा बलों की भारी तैनाती कर दी गई है और अकादमी जाने वाले सभी मार्गां को बंद कर दिया गया है. हाल के दिनों में तालिबान और इस्लामिक स्टेट समूह ने यहां हमले तेज कर दिए गए हैं. राजधानी काबुल सहित अफगानिस्तान के कई हिस्सों में हाल ही में हमले बढ़ गए हैं जिससे लोगों में आतंकवाद का खौफ बढ़ गया है.