वाशिंगटन/मर्फीसबोरो: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिट्सबर्ग में हुई गोलीबारी की घटना की निंदा करते हुए पेनसिल्वेनिया के पिट्सबर्ग शहर जाने की योजना बनाई है. बता दें कि वहां एक बंदूकधारी ने यहूदियों के प्रार्थना स्थल पर गोलीबारी कर 11 लोगों की हत्या कर दी थी. Also Read - US President: जिद के बाद आखिरकार व्हाइट हाउस छोड़ने को तैयार हुए डोनाल्ड ट्रंप, रखी ये शर्त

Also Read - US Election 2020: कौन होगा अमेरिका का 45वां राष्ट्रपति.. ट्रंप या बाइडेन, वोटिंग हुई शुरू

यहूदी प्रार्थना स्थल पर गोलीबारी में 11 लोगों की मौत, हमलावर गिरफ्तार Also Read - US Election: भारतवंशी निक्की हेली का दावा, अमेरिका ने तोड़ी पाकिस्तान की कमर, बंद की अरबों की फंडिंग

पूरा अमेरिका शोकाकुल है

नवंबर में होने वाले मध्यावधि चुनावों से पहले प्रचार रैली के लिए इलिनियोस में मौजूद ट्रंप ने गोलीबारी की घटना को देखते हुए इस दौरे की योजना बनाई जिसके बारे में उन्होंने विस्तार से नहीं बताया. उन्होंने इस हमले को “दुष्टापूर्ण किया गया यहूदी विरोधी हमला” और “मानवता पर हमला” बताया. ट्रंप ने ट्वीट किया,“ पूरा अमेरिका यहूदी अमेरिकियों की हत्या पर शोकाकुल है.”

जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने शनिवार को अमेरिका के पिट्सबर्ग में यहूदियों के प्रार्थना स्थल पर हुई घातक गोलीबारी को “घोर यहूदी विरोधी घृणा अपराध” बताते हुए उसकी निंदा की है. जर्मनी सरकार के एक प्रवक्ता ने मर्केल के बयान को ट्वीट किया जिसमें कहा गया, “यहूदी विरोधी विचारों के खिलाफ हम सबको, हर जगह खड़ा होना होगा.” वहीँ व्हाइट हाउस ने भी इसकी कड़ी निंदा की है.

शहर के जन सुरक्षा निदेशक वेंडेल हिसरिच ने बताया कि इस गोलीबारी में 11 लोगों की मौत हो गई और छह लोग घायल हो गए. जांच एजेंसी एफबीआई मामले की जांच घृणा अपराध के तौर पर कर रही है.

अपने खुद के देश में प्रबल हो रहे यहूदी विरोधी विचारों का सामना कर रही मर्केल ने कहा कि उनकी संवेदनाएं मृतकों के परिवारों के साथ है और उन्होंने घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना की.(इनपुट एजेंसी)