लंदन: ब्रिटेन के विदेश मंत्री जेरेमी हंट ने पद-भार संभालते ही योरोपीय संघ के सहयोगियों और वैश्विक रिश्तों में गर्मजोशी लाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं. टेक्स्ट और व्हाट्सऐप के जरिए होने वाले संवादों पर आश्चर्य जताते हुए उन्होंने यूरापीय संघ के महत्वपूर्ण सहयोगियों के साथ नए हॉटलाइन स्थापित किए हैं जिससे कि आपसी संवाद सुरक्षित रहें. वही उन्होंने डिप्लोमेट्स और विभिन्न देशों में नियुक्त अपने एम्बेसडर व एम्बेसी को भी देश की विदेश नीति में पहले से अधिक सक्रिय भूमिका निभाने को कहा. Also Read - पीएम मोदी ने जापान और नेपाल के प्रधानमंत्री से की फोन पर बात, कहा- कोरोना से लड़ाई में हम एक साथ खड़े हैं

किम जोंग उन जल्दी ही सियोल व रूस की आधिकारिक यात्रा करेंगे: मून Also Read - भारत, जापान में बढ़ रहे कोविड-19 के मामले, कई देशों में कम हो रहा प्रकोप

‘हॉट लाइन’ के जरिए कूटनीति को नई दिशा
जुलाई में विदेश मंत्री बने जेरेमी हंट ने नए हॉट लाइन स्थापित करवाने के बाद कहा, ‘‘पूरी दुनिया के विदेश मंत्री टेक्स्ट और व्हाट्सऐप के जरिए बहुत बातचीत करते हैं. आजकल ज्यादातर कूटनीति इसी तरीके से होती है. मेरे लिए यह बहुत आश्चर्यजनक था.’’उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन कुछ ऐसी बातचीत होती है, जिन्हें ज्यादा सुरक्षित लाइन पर करना सही होता है. इसलिए हम हॉटलाइन के जरिए जिन लोगों से बातचीत की जाएगी उनकी संख्या बढ़ा रहे हैं.’

लंदन में एक कार्यक्रम के दौरान हंट ने कहा कि जब वह विदेश मंत्री बने थे तो उनके कार्यालय में ब्रिटेन के महत्वपूर्ण खुफिया सहयोगियों अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के साथ बातचीत के लिए हॉटलाइन थी. हंट ने इस सूची में जापान, फ्रांस और जर्मनी का नाम जोड़ा है. उनका कहना है कि इससे महत्वपूर्ण सहयोगियों के साथ संबंध मजबूत होते हैं.(इनपुट एजेंसी)

श्रीलंका का सियासी संकट: UN महासचिव ने कहा- लोकतांत्रिक मूल्यों का सम्मान करें