नई दिल्ली: नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने भारत को लेकर एक बार फिर से विवादित बयान दिया है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भारत से आने वाले लोग उनके देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैला रहे हैं. बता दें कि नेपाल में सोमवार को कोरोना वायरस के 72 नए मामले सामने आए जिससे देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 675 हो गई. नेपाल में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के मामले तेजी से बढ़े हैं. Also Read - Nepal Temples: ये हैं नेपाल के 5 प्रसिद्ध मंदिर, जहां हर साल लाखों की संख्या में दर्शन करने जाते हैं भारतीय

कोरोना संकट से परेशान नेपाल के पीएम ने कहा कि दक्षिण एशिया के अन्य देशों की तुलना में नेपाल में मृत्यु संख्‍या कम है. उन्होंने कहा, “भारत से आने वाले लोग बिना उचित जाँच के आ रहे हैं जिससे COVID19 का और अधिक प्रसार हो रहा है.” Also Read - देश में कोरोना के मामले 9 लाख के पार, एक दिन में आए 28,498 नए केस

बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब नेपाली पीएम ने कोरोना को लेकर भारत पर आरोप लगाया है. इससे पहले भी उन्होंने कहा था कि चीन के वुहान से निकले वायरस के मुकाबले ‘भारतीय वायरस’ ज्यादा खतरनाक है. नेपाली पीएम ने अपने देश में कोरोनावायरस के प्रसार के लिए भारत को दोषी ठहराते हुए कहा, ‘चीनी और इतालवी की तुलना में भारत का वायरस “अधिक घातक” लगता है.

नेपाल ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन दो जून तक के लिए बढ़ा दिया है. नेपाल उन देशों में से है जहां कोराना वायरस के मामले सबसे कम आए हैं. स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के अनुसार सोमवार को संक्रमण के 72 नए मामले सामने आए. यह संख्या किसी एक दिन में सबसे उच्च स्तर है. इसके साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 675 हो गयी. नेपाल में 24 मार्च को लॉकडाउन लागू किया गया था जो दो जून तक प्रभावी रहेगा. हालांकि नेपाल ने सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को 14 जून तक के लिए रद्द कर दिया है.