बेथलेहम/ यरुशलम: इस बार कई साल के बाद बेथलेहम में क्रिसमस की धूम कुछ अलग ही रही. क्रिसमस की पूर्व संध्या पर विश्वभर से हजारों लोग यीशु के जन्म स्थल बेथलेहम पहुंचे जहां अरसे बाद लोगों ने बेहद हर्षोल्लास के साथ यह त्योहार मनाया. अमेरिकी प्रशासन द्वारा येरूशलम को इजराइल की राजधानी घोषित किए जाने और ऑस्ट्रेलिया द्वारा मान्यता दे दिए जाने के बाद इतनी बड़ी तादाद में लोग पहली बार यहां एकत्र हुए हैं. ग्रोटो (प्राकृतिक गुफा) के दर्शन के लिए भारी तादाद में लोग लाइन में लगे. ऐसी मान्यता कि प्रभु यीशु का जन्म यहीं हुआ था.

पश्चिमी यरुशलम को इज़राइल की राजधानी के तौर पर ऑस्ट्रेलिया ने दी मान्यता

क्रिसमस ईव पर ‘मैंजर स्क्वायर’ में पर्यटक और स्थानीय लोग आधी रात को एकत्रित हुए और फलस्तीनी बालक स्काउट और बालिका स्काउट (गाइड) के नेतृत्व में पारंपरिक मार्च निकाला गया और सोमवार को मनाए जाने वाले क्रिसमस के जश्न का आगाज किया गया. फलस्तीन की पर्यटन मंत्री रूला मैया ने बताया कि बेथलेहम के सभी होटल बुक थे और सुरक्षा स्थिति भी पूरी तरह नियंत्रण में रही. उन्होंने कहा, ‘‘इससे पहले कभी इतनी बड़ी संख्या में लोग फलस्तीन नहीं आए थे.’’ ट्रेवल एजेंट फादी खतान ने कहा कि आज से आने वाले कुछ दिनों तक शहर के सभी होटल बुक हैं. क्रिसमस की पूर्व संध्या पर श्रद्धालु बेथलेहम पहुंचे और ग्रोटो (प्राकृतिक गुफा) के दर्शन के लिए पंक्तियों में लगे. ऐसा माना जाता है कि यीशु का जन्म यहीं हुआ था. (इनपुट एजेंसी)

अफगानिस्तान-अमेरिका के नए डेवलमेंट से भारत पर पड़ेगा ये असर, अरबों का निवेश अधर में