बीजिंग: टिक टॉक ने 19 सितंबर को वक्तव्य जारी कर कहा कि उनकी मूल कंपनी बाइटडांस और अमेरिका की ओरेकल एवं वॉल-मार्ट कंपनियों के बीच आम सहमति बन गयी है, तीनों कंपनियां जल्द ही दोनों देशों के कानूनी नियमों के आधार पर सहयोग समझौता करेंगी. वक्तव्य के अनुसार, यह आम सहमति अमेरिका सरकार को प्रस्तुत की गई है. टिक टॉक का मानना है कि इस आम सहमति के जरिए भविष्य में अमेरिका में संचालन और विकास करने के लिए लाभदायक है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने उस दिन कहा कि उन्होंने तीनों कंपनियों के बीच सहयोग योजना पर सहमति जताई है. Also Read - Expenses in US presidential Election: दुनिया के सबसे ताकतवर व्यक्ति के चुनाव में खर्च होते हैं 1035000000000 रुपये ...होश मत खोइएगा!

बता दें कि बाइटडांस ने टिकटॉक के अमेरिकी ऑपरेशन्स को बेचा है. इसके बाद टिकटॉक पर अमेरिका में लोगों द्वारा साझा किया जा रहा डाटा अमेरिका के अंदर अमेरिकी कंपनी ओरेकल के पास स्टोर होगा. इस डाटा का किसी तरीके से चीन में गलत इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा. बता दें कि बीते दिनों डोनाल्ड ट्रंप ने कंपनी को चेतावनी देते हुए कुछ दिनों की मोहलत दी थी. इस दौरान या तो टिकटॉक को किसी अमेरिकी कंपनी को बेंचना था या फिर अमेरिका में टिकटॉक को प्रतिबंधित कर दिया जाता. ऐसे में कंपनी अमेरिकी ऑपरेशन्स को ओरेकल को बेच दिया. Also Read - अमेरिकी चुनाव के बीच भारत आ रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप के दो 'दूत', चीन को रोकने पर होगी चर्चा

बता दें कि टिकटॉक पर सबसे पहले कार्रवाई भारत सरकार द्वारा की गई थी. इसके बाद अमेरिका में टिकटॉक को लेकर मामले सामने आने लगे और ट्रंप ने चेतावनी तक दे डाली. इसी चेतावनी के डर से बाइटडांस द्वारा यूरोप में स्टोरेज सेंटर खोला गया है ताकि यूरोप के टिकटॉक यूजर्स का डेटा यूरोप में ही सेव हो, ताकि कल को यूरोप में भी इसे बैन करने की मांग न होने लगे. Also Read - US Presidential Elections 2020: वेस्ट पाम में मतदान के बाद बोले ट्रंप- मैंने ट्रंप नाम के एक व्यक्ति को वोट दिया