मोगादिशु: सोमालिया की राजधानी में एक सुरक्षा जांच चौकी एवं कराधान कार्यालय पर शनिवार सुबह हुए एक ट्रक बम विस्फोट में कम से कम 76 लोग मारे गए. यह हमला हाल के वर्षों में मोगादिशु में हुए भीषणतम हमलों में से एक है. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि आज के विस्फोट को देखकर उन्हें 2017 में हुए विस्फोट की याद आ गई जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए थे.

निजी आमीन एंबुलेंस सेवा के निदेशक अब्दूकादिर अब्दीरहमान ने एएफपी से कहा कि 76 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है और 70 अन्य घायल हुए हैं. पुलिस अधिकारी इब्राहीम मोहम्मद ने विस्फोट को ‘भयावह’ करार दिया. मारे गए लोगों में से ज्यादातर विश्वविद्यालय और अन्य संस्थानों के छात्र बताए जाते हैं जो अपनी कक्षाओं के लिए निकले थे. इब्राहीम ने कहा कि हमने दो तुर्क नागरिकों के मरने की भी पुष्टि की है जो संभवत: सड़क निर्माण से जुड़े इंजीनियर थे. हमें अभी यह नहीं पता कि वे घटनास्थल से गुजर रहे थे या फिर इस क्षेत्र में रहते थे. मोगादिशु के मेयर उमर महमूद मोहम्मद ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मरने वालों की सटीक संख्या का अभी पता नहीं है, लेकिन घायलों की संख्या लगभग 90 है.

सुबह के समय तब हुआ विस्फोट
कैप्टन मोहम्मद हुसैन ने बताया कि विस्फोट सुबह के समय तब हुआ जब सोमालिया में लोग सप्ताहांत के बाद अपने काम के लिए निकले. इसमें कर संग्रह केंद्र को निशाना बनाया गया. विस्फोट के बाद राजधानी के ऊपर धुएं का गुबार छा गया. घटनास्थल पर नष्ट हुए वाहन और शव बिखरे नजर आए. अभी किसी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. आतंकी संगठन अलकायदा से जुड़ा चरमपंथी संगठन ‘अल शबाब’ प्राय: इस तरह के हमलों को अंजाम देता रहता है. चरमपंथी समूह को कई साल पहले मोगादिशु से खदेड़ दिया गया था, लेकिन वह सुरक्षा चौकियों, होटलों और समुद्र किनारे इस तरह के बड़े हमलों को अंजाम देता रहता है. अल शबाब ने 2017 में भी मोगादिशु में एक भीषण ट्रक बम विस्फोट किया था जिसमें 500 से अधिक लोग मारे गए थे.