वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक इंटरव्यू में कहा कि उनके वकील माइकेल कोहेन ने 2016 चुनाव के समय दो महिलाओं को उनके और ट्रम्प के सम्बन्धों के बारे में चुप रहने के लिए पैसे (हश मनी) दिए थे, लेकिन उन्हें इस बात कि जानकारी बाद में हुई. उन्होंने ये भी कहा कि ‘दिए गए पैसे कैंपेन फण्ड से नहीं दिए गए थे, बल्कि उन्होंने खुद दिए थे.’ ये बताते हुए ट्रम्प ने 3 मई को किए गए अपने ट्वीट की भी बात की, जिसमें उन्होंने पैसे देने की बात स्वीकारी थी. Also Read - Covid-19: चीन ने अमेरिका को दिया बड़ा मदद, महामारी से लड़ने के लिए भेजे इतने टन चिकित्सा सामग्री 

महाभियोग का करना पड़ सकता है सामना
वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के पूर्व सलाहकार माइकल कैपुटो ने आज चेतावनी देते हुए कहा कि डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व अधिवक्ता माइकल कोहेन द्वारा जुर्म स्वीकार किए जाने के कारण राष्ट्रपति को कुछ महीनों में महाभियोग का सामना करना पड़ सकता है. साल 2016 में ट्रंप के राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव प्रचार अभियान के संचार सलाहकार ने कहा कि, ‘डेमोक्रेट्स को महाभियोग के लिए ऐसे ही तथ्यों की जरुरत है.’

राष्ट्रपति ट्रंप ने चुप रहने के लिए पॉर्न स्टार्स को दिए थे पैसे, अब कहा- कोई गलती नहीं की

कैपुटो ने यह भी कहा कि उनका मानना है कि, ‘नवंबर में होने वाला मध्यावधि चुनाव अहम होगा क्योंकि यह निर्धारित करेगा कि मतदाता महाभियोग का समर्थन करते हैं या विरोध. अगर मध्यावधि चुनाव के दौरान डेमोक्रेट्स को सदन में बहुमत मिल जाता है, तो राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग चलाने के लिए पर्याप्त होगा.’

कोहेन ने स्वीकारा ट्रम्प के कहने पर दिए थे पैसे
ट्रंप के लिए काम करने वाले कोहेन ने मंगलवार को कर धोखाधड़ी, बैंकों को झूठे बयान देने और प्रचार अभियान में वित्तीय उल्लंघनों समेत आठ आरोप स्वीकार किए थे. उन्होंने यह भी स्वीकार किया है कि ट्रम्प के कहने पर उन महिलाओं को चुप करने के लिए भी पैसे दिए गए थे जिनका कहना था कि उनका ट्रम्प से सम्बन्ध रहा है. कोहेन के वकील लैनी डेविस ने भी बुधवार को दिए इंटरव्यू में कहा कि कोहेन पूरी जांच के साथ आगे भी सहयोग करते रहेंगें और ट्रम्प के के गलत कामों की जानकारी देने से पीछे नहीं हटेंगें.

पार्टी अगर दूसरा नेता चुनने का फैसला करती है, तो राजनीति छोड़ दूंगा: ऑस्ट्रेलियाई पीएम

ओबामा ने भी किया था नियमों का उल्लंघन
अमेरिकी राष्ट्रपति से अपने इंटरव्यू में आगे कहा कि, ‘अगर हम राष्ट्रपति ओबामा के कैंपेन को देखें तो पाएंगें की उन्होंने बहुत से नियमों का उल्लंघन किया था लेकिन उनका अटॉर्नी जनरल दूसरा था, इसलिए लोगों ने ओबामा को गलत नहीं माना.’ ट्रम्प ओबामा के 2008 के कैंपेन की ओर इशारा कर रहे थे जब चुनाव आयोग ने उन पर तीन लाख डॉलर से अधिक का जुर्माना लगाया था.

वहीं कोहेन और ट्रंप के पूर्व अभियान प्रबंधक पॉल मैनाफोर्ट को मंगलवार को न्यूयॉर्क और वर्जीनिया की अदालतों ने दोषी ठहराया. 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में रूस की कथित हस्तक्षेप को लेकर चल रही एफबीआई की जांच से ये आरोप सामने आए थे. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सांडर्स ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि ट्रम्प ने कुछ भी गलत नहीं किया है और कोहेन के आरोपों का कोई आधार नहीं है.

हांगकांग: ऐनेस्थेटिस्ट ने योगा बॉल में कार्बन मोनोआक्साइड भर कर पत्नी व बेटी को मार डाला