वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि सीरिया में वर्षों से आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लड़ रही अमेरिकी सेना को अब घर वापस बुलाने का वक्त आ गया है. क्योंकि उन्होंने इस्लामिक स्टेट के जिहादियों को हरा दिया है, उन्हें नेस्तनाबूद कर दिया है. व्हाइट हाउस का कहना है कि अमेरिकी सेना की वहां तैनाती का उद्देश्य isis को हराना था उनका काम गृहयुद्ध का समाधान करना नहीं था. उन्होंने अपना उद्देश्य पूरा कर लिया है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का हो सकता है जल्द ही ‘महाभियोग’ से सामना: माइकल कैपुटो

हम जीत गए
बुधवार को ट्विटर पर पोस्ट एक वीडियो संदेश में आईएसआईएस जिहादियों की हार की घोषणा करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘‘हम जीत गए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने उन्हें हरा दिया है और उन्हें बुरी तरह हराया है. हमने जमीन वापस ले ली है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हमारे लड़के, युवतियां, हमारे लोग…. वे सभी वापस आ रहे हैं.’’ वाशिंगटन में सीरिया से 2000 अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की खबरों के बीच ट्रंप का यह संदेश आया है. अमेरिका के एक अधिकारी ने कहा कि ट्रंप ने इस पर अंतिम फैसला मंगलवार को लिया. वहीं, व्हाइट हाउस का कहना है कि सीरिया से सैनिकों को वापस बुलाने का ट्रंप का फैसला उनकी नीतियों के अनुरूप है क्योंकि युद्ध से जर्जर देश में अमेरिकी सैनिकों का मुख्य कार्य आईएस को हराना था. अमेरिकी सेना वहां कभी भी गृहयुद्ध के समाधान के लिए नहीं गई थी. (इनपुट एजेंसी)

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की फोन पर होने वाली बातचीत को सुनते हैं ‘चीन व रूस’: रिपोर्ट