वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनकी सरकार ने व्यापार में चीन के ‘अनुचित’ व्यवहार के खिलाफ अब तक के सबसे कड़े कदम उठाए हैं. ट्रम्प ने कहा कि देश का हित सर्वोपरि है उन्होंने देशवासियों की सुरक्षा अपनी पहली प्रतिबद्धता बताई. ट्रंप एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे. गौरतलब है कि अमेरिका इस साल जून से अमेरिका में चीन से आने वाले माल पर धीरे-धीरे आयात शुल्क बढ़ा रहा है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की फोन पर होने वाली बातचीत को सुनते हैं ‘चीन व रूस’: रिपोर्ट

चीन समझौता चाहता है !
बीजिंग को अरबों डॉलर के व्यापार घाटे को कम करने के लिए कहते हुए ट्रंप ने चीन की ‘अनुचित’ व्यापार गतिविधियों के खिलाफ अभूतपूर्व कड़े कदम उठाए हैं. ट्रंप ने विस्किन्सिन में अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए एक चुनावी रैली में कहा, ‘चीन की अनुचित व्यापारिक गतिविधियों को रोकने के लिए हमने अब तक के सबसे कड़े कदम उठाए हैं.

उन्होंने दावा किया कि अमेरिका द्वारा उठाए गए कड़े उपायों के कारण चीन उसके साथ समझौता करना चाहता है. ट्रंप ने अमेरिका और चीन के बीच कारोबार में बहुत अधिक अंतर का उल्लेख करते हुए कहा, “वे समझौता करना चाहते हैं. यह सच है. वे करार चाहते हैं. राष्ट्रपति शी एक शानदार इंसान हैं और हम लोग जल्द ही कुछ करेंगे. लेकिन आपको पता है कि एक अरसे से हर साल इस देश से 500 अरब डॉलर निकाल लिए गए.” गौरतलब है कि ट्रंप का 30 नवंबर और एक दिसंबर को अर्जेंटीना में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर चीनी समकक्ष शी चिनफिंग से मुलाकात का कार्यक्रम है. (इनपुट एजेंसी)

वारसॉ सुरक्षा फोरम: रक्षा विशेषज्ञ ने अगले 15 वर्ष में चीन-अमेरिका वॉर की जताई आशंका !