संयुक्त राष्ट्र: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में एक उच्च स्तरीय कार्यक्रम के दौरान एक दूसरे का कुशल क्षेम पूछा. सुषमा ने जब अमेरिकी राष्ट्रपति से कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शुभकामनाएं लेकर आई हैं तब ट्रंप ने कहा, ” मैं भारत से प्यार करता हूं, मेरे मित्र पीएम मोदी को मेरा अभिवादन प्रेषित कीजिएगा.”

मादक पदार्थों के प्रतिरोध पर इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अमेरिकी राष्ट्रपति ने की. कार्यक्रम के समापन पर ट्रंप के मंच से उतरने पर संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने सुषमा को गले लगाया और राष्ट्रपति से उन्हें मिलाया. भारतीय राजनयिक सूत्रों ने बताया कि सुषमा ने जब अमेरिकी राष्ट्रपति से कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शुभकामनाएं लेकर आई हैं तब ट्रंप ने कहा, ”मैं भारत से प्यार करता हूं, मेरे मित्र पीएम मोदी को मेरा अभिवादन प्रेषित कीजिएगा.”

संयुक्त राष्ट्र महासभा में बैठक में शामिल होने पहुंची सुषमा स्वराज, 30 द्विपक्षीय मीटिंग करेंगी

यहां संयुक्त राष्ट्र महासभा के 73 वें सत्र के उच्च स्तरीय सप्ताह के शुरू होने पर विदेश मंत्री विश्व मादक पदार्थ समस्या पर कार्रवाई के लिए वैश्विक आह्वान में शरीक हुई. इसकी अध्यक्षता ट्रंप ने की.

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के उच्च-स्तरीय सत्र में शामिल होने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शनिवार को न्यूयॉर्क पहुंची और वह 29 सितंबर को वैश्विक नेताओं को संबोधित करेंगी. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज संयुक्त राष्ट्र महासभा के 73वें सत्र के दौरान विभिन्न देशों के अपने समकक्षों के साथ द्विपक्षीय बैठकें करने के अलावा दक्षेस और ब्रिक्स जैसे संगठनों के साथ बहुपक्षीय वार्ता भी करेंगी.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 73वें सत्र के दौरान भारत के लिए शीर्ष प्राथमिकताओं में बेहतर बहुपक्षीय संबंध, जलवायु कार्य योजना, सतत विकास, शांति और सुरक्षा से जुड़े मुद्दे शामिल होंगे.

अमेरिका में सिख अटॉर्नी जनरल पर नस्ली टिप्पणी करने के बाद मचा हंगामा, आखिर शेरिफ ने दिया इस्तीफा

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने रविवार को एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान बताया कि यूएनजीए के 73वें सत्र के दौरान बेहतर बहुपक्षीय संबंध, जलवायु कार्य योजना, सतत विकास, शांति और सुरक्षा संबंधी मुद्दे भारत की प्राथमिकताओं में शामिल होंगे. अकबरुद्दीन ने कहा, बहुपक्षीय व्यवस्था कुछ खतरों एवं चुनौतियों का सामना कर रही है.”

उन्होंने कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के आकलन से सहमत है कि बहुपक्षीय मंच हमेशा की तरह अहम बने हुए हैं. संयुक्त राष्ट्र महासभा में वैश्विक स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर चर्चा होगी और इस दौरान समस्त स्वास्थ्य समुदाय की नजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की महत्त्वाकांक्षी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत पर होगी.