वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार कहा कि उत्तर कोरिया के साथ निर्धारित शिखर वार्ता ना होने पर अमेरिका अगला कदम उठाएगा साथ ही उन्होंने दोनों नेताओं के बीच होने वाली ऐतिहासिक वार्ता पर प्योंगयांग के रुख बदलने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया. सिंगापुर में ट्रंप और किम के बीच होने वाली शिखर वार्ता पर अब भी संदेह के बादल मंडरा रहे हैं, क्योंकि उत्तर कोरिया ने मंगलवार को अमेरिका पर एकतरफा परमाणु निरस्त्रीकरण का आरोप लगाते हुए 12 जून को होने वाली वार्ता से पीछे हटने की धमकी दी थी. बता दें कि नॉर्थ कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच सैन्य अभ्यासों पर भी आपत्ति जताई है.

ट्रंप ने ओवल कार्यालय में मीडियाकर्मियों ने कहा, ”हम देखेंगे की क्या होता है. अगर बैठक हुई तो हुई.. और अगर नहीं हुई तो हम अगला कदम उठाएंगे.”

अमेरिका ने कहा- किम का हाल गद्दाफी जैसा होगा
किम को तसल्ली देने के लिए ट्रंप ने उसे सत्ता में रहने के लिए परमाणु हथियार त्यागने का प्रस्ताव दिया साथ ही धमकी भी दी थी कि कूटनीति विफल होने पर लीबिया जैसे हालात पैदा हो सकते हैं और उत्तर कोरियाई नेता का वहीं हश्र हो सकता है जैसा मुअम्मार अल-गद्दाफी का हुआ था. गद्दाफी को सत्ता से हटा उसकी हत्या कर दी गई थी.

किम- शी की मुलाकात से अचानक बदलीं चीजें
उत्तर कोरिया के अचानक शिखर वार्ता को लेकर रुख बदलने के सवाल पर ट्रंप ने कहा, उसके चीन से मुलाकात करने के बाद चीजें अचानक बदल गई. शी और किम के बीच दो माह के भीतर दो बार बैठक करने के सवाल पर ट्रंप ने कहा, ” यह हो सकता है कि वह (चीनी राष्ट्रपति) किम जोंग उन को प्रभावित कर रहे हैं. हम देखेंगे की क्या होता है. चीन के राष्ट्रपति, राष्ट्रपति शी चिनफिंग किम जोंग-उन को प्रभावित कर सकते हैं. लेकिन हम देखेंगे क्या होता है.”

अभी सभी को संदेह का लाभ
किम के साथ मुलाकात करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे सच में नहीं पता, नहीं. मैं सभी को संदेह का लाभ देना चाहूंगा. मैं बस यही कह सकता हूं कि अभी हमारे लोग बैठक की व्यवस्था करने के लिए उनके साथ काम कर रहे हैं. जो आप पढ़ते हैं उसमें काफी अंतर है, लेकिन कई बार आप जो पढ़ते हैं वह फर्जी नहीं होता, वह सत्य होता है. इसलिए हम देखेंगे की क्या होता है.

अमेरिका-दक्षिण कोरिया से सैन्याभ्यास रोकने का आग्रह
उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया से अमेरिका के साथ संयुक्त सैन्याभ्यास रोकने का आग्रह किया है ताकि अंतर कोरियाई वार्ता बहाल हो सके. प्योंगयांग ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच दो सप्ताह लंबे वायुसैन्याभ्यास के विरोध में बीते बुधवार को अंतर कोरियाई वार्ता रद्द कर दी थी.

2018 मैक्स थंडर संयुक्त वायुसैन्याभ्यास का विवाद
उत्तर कोरिया के देश के शांतिपूर्ण  पुनर्एकीकरण की समिति के अध्यक्ष री सोन ग्वोन ने कहा, “दक्षिण कोरिया प्रशासन ने अमेरिका के साथ 2018 मैक्स थंडर संयुक्त वायुसैन्याभ्यास शुरू किया है, जिसका उद्देश्य उत्तर कोरिया के चुनिंदा ठिकानों को निशाना बनाना और वायु नियंत्रण पर शिकंजा कसना है.”
(इनपुट- एजेंसी)