नई दिल्‍ली/मुजफ्फराबाद: पाकिस्‍तान की इमरान खान पीओके में अपनी की सरकार खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों पर जुल्‍म ढाने से हिचक नहीं रही है. इमरान सरकार ने पाकिस्‍तान से आजाद होने की मांग कर रहे पीओके के लोगों पर ऐसी बर्बरता ढाई है. कश्‍मीर को लेकर दुनियाभर में मानवाधिकारों का राग गाने वाली पाकिस्‍तानी हुकूमत किस तरह से मानावाधिकारों की धज्जियां उड़ा रही है, जिसका जीता जागता सबूत है ये वीडियो. पाकिस्‍तान सरकार पीओके के लोगों की हर आवाज को खामोश करने के लिए पूरी ताकत झोंक रही है. मंगलवार को पाक पुलिस ने कुछ ऐसा ही किया है, जिसका ये वीडियो सामने आया है.

न्‍यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीओके में ऑल इंडिपेंडेंट पार्टीज अलायंस (AIPA) के तहत विभिन्न राजनीतिक दलों ने “काला दिवस” ​​मनाने के लिए मुजफ्फराबाद में आजादी समर्थक रैली का आह्वान किया था. इस दिन 1947 में पाकिस्तानी सेना ने जम्मू-कश्मीर पर आक्रमण किया था. पाकिस्‍तान से आजादी की मांग कर रहे मुजफ्फराबाद में इन लोगों पर पुलिस ने बर्बरता की सारी हदें पार करते हुए निहत्‍थे लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग की, जिसमें 2 लोगों की मौत हो गई और 100 से ज्‍यादा लोग घायल हो गए.

आक्रमण दिवस की 72 वीं वर्षगांठ पर प्रदर्शनकारियों ने एक विशाल प्रदर्शन का मंचन किया था, पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर के नाम पर न केवल आंसू गैस के गोले छोड़े, बल्कि लाठीचार्ज में लोगों की बुरी तरह से खींच-खींच पिटाई भी की.