अमेरिकी समाज और राजनीति में भारतीय मूल के लोगों की अहमियत काफी बढ़ गई है. तभी तो वहां की दोनों प्रमुख पार्टियां ऊंचे-ऊंचे पदों पर भारतीयों की नियुक्ति करती हैं. इसी क्रम में भारतीय मूल के दो प्रख्यात अमेरिकी शख्स डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन के मुख्य सलाहकारों में शामिल हुए हैं जो कोरोना वायरस महामारी से लेकर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने, विदेश नीति और जलवायु परिवर्तन जैसे मामलों में उन्हें सलाह दिया करते हैं. एक मीडिया रिपोर्ट में यह बात कही गई है.Also Read - कोई नहीं है टक्कर में, दुनिया के नंबर वन नेता हैं पीएम मोदी, बाइडन-जॉनसन सब रह गए पीछे, देखें तस्वीरें.

न्यूयार्क टाइम्स की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी पर उन्हें सलाह देने वालों में अमेरिका के पूर्व सर्जन जनरल डॉ विवेक मूर्ति शामिल हैं. मूर्ति की नियुक्ति पूर्व राष्ट्रपति राष्ट्रपति बराक ओबामा ने की थी वहीं बाइडेन को आर्थिक मुद्दों की जानकारी हार्वर्ड के अर्थशास्त्री राज चेट्टी दे रहे हैं. Also Read - 5G Effect On Aviation: अमरीका में 5G सेवाओं को लेकर Aviation सेक्टर परेशान | हजारों उड़ानें रद्द होने का खतरा

मूर्ति और खाद्य एवं औषधि प्रशासन के पूर्व प्रमुख डेविड केसलर उन लोगों में शामिल हैं जो बाइडेन प्रचार अभियान की ओर से की गई एक कॉन्फ्रेंस कॉल पर थे, तभी इस बात का पता लगा था कि सीनेटर कमला हैरिस के साथ यात्रा करने वाले दो लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है. Also Read - Covid 19 USA: अमेरिका में कोरोना से 8.51 लाख लोग एक दिन में संक्रमित, मदद के लिए भेजी गई अमेरिकी सेना

रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘बाइडेन अक्सर विशेषज्ञों के साथ अपनी बातचीत का जिक्र करते है और डॉ मूर्ति और डॉ केसलर चिकित्सा क्षेत्र के दो दिग्गज हैं जिनसे जन स्वास्थ्य संकट के वक्त बाइडेन ने परामर्श लिया था.’’

रिपोर्ट में केसलर के हवाले से कहा गया कि महामारी के शुरुआती दिनों में वह और मूर्ति बाइडेन को प्रतिदिन या सप्ताह में चार बार जानकारी दिया करते थे.

अर्थव्यवस्था पर सलाह लेने के लिए बाइडेन का दायरा बहुत बड़ा है और वह सैकडों नीति विशेषज्ञों से परामर्श लेते हैं. फेडरेशन रिजर्व की पूर्व अध्यक्ष जेनेट येलेन ने कहा कि अर्थव्यवस्था पर बाइडेन को जानकारी देने वालों में चेट्टी शामिल हैं ‘‘जिन्होंने आर्थिक गतिशीलता और इसके आधार पर अहम शोध किया है.’’

(इनपुट-भाषा)