क्राइस्टचर्च: न्यूजीलैंड की अल नूर मस्जिद में जब बंदूकधारी ने खूनी खेल खेला तो वहां कश्मीरी हाई स्कूल के तीन छात्र भी जुमे की नमाज अदा कर रहे थे. अब जब सोमवार को फिर से स्कूल खुलेगा तो उनमें से कोई भी वहां नहीं दिखेगा. ऐसा बताया जा रहा है कि दो छात्रों की मौत हो गई और तीसरा छात्र अस्पताल में भर्ती है. सैय्यद मिलने (14) के पिता ने न्यूजीलैंड हेराल्ड को बताया कि उनका बेटा आखिरी बार मस्जिद में जमीन पर खून से सना हुआ देखा गया था. उन्होंने अखबार को बताया, ”मैंने अपना छोटा बच्चा खो दिया. वह अभी 14 साल का ही था.” कश्मीरी हाई स्कूल के एक पूर्व छात्र के भी मारे जाने की खबर है, जो एक अन्य छात्र का पिता था.

रविवार को स्कूल के बाहर छात्रों ने मृतकों की याद में फूलों के गुलदस्ते चढ़ाए. प्रिंसिपल मार्क विल्सन ने बताया कि 2,000 से ज्यादा छात्रों वाले इस स्कूल में कक्षाएं फिर से शुरू होने पर परामर्शक और ट्रॉमा विशेषज्ञ बुलाए जाएंगे.

उन्होंने कहा, ”मुझे अपने स्टाफ पर बहुत भरोसा है. मुझे अपने स्कूल के समुदाय पर काफी भरोसा है. यह शानदार लोगों से बना है. फिर भी यह मुश्किल होने जा रहा है. काफी दुख का माहौल है. मुझे लगता है कि हमें एक-दूसरे के साथ काफी धैर्य रखना चाहिए.” जिन छात्रों के मारे जाने की खबर है, उनके बारे में विल्सन ने बात करने से इनकार कर दिया है. लेकिन पुष्टि की कि शुक्रवार को तीन छात्र मस्जिद में थे और उन्होंने बताया कि एक छात्र अस्पताल में भर्ती है उसके पैर में गोली लगी है. उन्होंने कहा कि इस सदमे से उबरने की कोशिश कर रहे बच्चों के लिए स्कूल सुरक्षित स्थान हो सकता है. वह छात्रों को इस हादसे के खिलाफ प्रेम की भावना अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.