टोक्यो: विश्व के इतिहास में काले दिन के रूप में दर्ज है 9 अगस्त की तारीख. 73 वर्ष पहले आज ही के दिन सेकेण्ड वर्ल्ड वॉर के दौरान अमेरिका ने जापान के नागासाकी पर परमाणु बम गिराकर भयंकर तबाही मचाई थी. विश्व युद्ध तो इसके बाद जरूर थम गया था लेकिन उसकी त्रासदी के शिकार हिरोशिमा और नागासाकी आज भी उसका खामियाजा भुगत रहे हैं. 73 वर्ष बीतने के बाद भी रेडिएशन का असर इन शहरों की वर्तमान पीढ़ियों में देखने को मिलता है.

73 वर्ष बाद यूएन की पहल
जापान के नागासाकी पर गिराए गए एटम बम से मची तबाही के आज 73 साल पूरे हो गए हैं.  पहली बार इस मौके पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटारेस ने वैश्विक शांति के लिए सभी देशों से परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए प्रतिबद्ध होने और ठोस कदम उठाने का आग्रह किया.

उन्होंने कहा कि नागासाकी और हिरोशिमा पर बम गिराए जाने के 73 साल बाद भी परमाणु युद्ध का डर विश्व में बना हुआ है और ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति फिर से नहीं होनी चाहिए. 9 अगस्त 1945 को नागासाकी पर हुई अटॉमिक बमबारी जापान पर अमेरिका का दूसरा परमाणु हमला था जिसमें 70 हजार लोग मारे गए थे. अमेरिका ने इससे तीन दिन पहले हिरोशिमा पर एटम बम गिराया था जिसमें 140,000 लोग मारे गए थे. 9 अगस्त, 1945 की सुबह 11 बजकर 02 मिनट पर जापान के नागासाकी शहर में 1,650 फीट की ऊंचाई से एटम बम दागा गया था. जिसने पूरे शहर को तबाह कर दिया था. और शत्रु फौजों ने मित्र देशों के सामने हथियार डाल दिए थे.

August 9, 1945, At 11:02 AM #Nagasaki time, the Fat Man atomic bomb explodes at an altitude of 1,650 feet over the city. The explosion had a blast yield equivalent to 21 kilotons of TNT. pic.twitter.com/aLVtMD5imO

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने हाल ही में परमाणु हथियारों के निषेध पर संयुक्त राष्ट्र की संधि में भाग लेने से मना कर दिया था हालांकि उन्होंने कहा कि परमाणु देशों और गैर-परमाणु देशों के बीच जापान एक ब्रिज का काम कर रहा है. उनका कहना है कि अपने गैर परमाणु सिद्धांतों पर कायम रहते हुए हम परमाणु हथियारों के खात्मे के वैश्विक प्रयास में शामिल हैं. नागासाकी त्रासदी की 73वीं वर्षगांठ पर नागासाकी के मेयर तोमिहिसा ताउए ने त्रासदी के शिकार लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए जापान सरकार से दुनियाभर में परमाणु निरस्त्रीकरण का नेतृत्व करने के लिए और प्रयास करने का आग्रह किया.