कराची: पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार हामिद मीर ने कहा है कि उन्हें शीर्ष अधिकारियों से पता चला है कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने पाकिस्तान से कहा है कि वह कश्मीर को मुसलमानों का मुद्दा न बनाए. हामिद मीर ने बुधवार को जियो टीवी के एक कार्यक्रम में कहा कि उन्हें संघीय सरकार के कुछ जिम्मेदार लोगों ने बताया है कि यूएई ने पाकिस्तानी नेतृत्व से कहा है कि वह कश्मीर को मुसलमानों का मसला न बनाए.

मीर ने कहा कि उन्हें बताया गया है कि सऊदी अरब के विदेश मंत्री इसलिए पाकिस्तान पहुंच रहे हैं कि वह पाकिस्तान के साथ एकजुटता प्रदर्शित करेंगे. लेकिन, ‘आज (बुधवार को) सुबह हमें संघीय सरकार के कुछ बेहद जिम्मेदार लोगों ने बताया कि यूएई के विदेश मंत्री भी बजाहिर ऐसी एकजुटता ही दिखाने आ रहे हैं लेकिन इनके साथ पाकिस्तानी नेतृत्व की बीते दिनों जो बात हुई है, उसमें उन्होंने पाकिस्तानी नेतृत्व से जोर देकर आग्रह किया है कि वह कश्मीर को मुसलमानों का मसला बनाने की कोशिश न करे.

पीएम मोदी ने मलेशियाई प्रधानमंत्री से कश्मीर मुद्दे पर की बात, जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण का मामला भी उठाया

इमरान ने सऊदी और यूएई के विदेश मंत्रियों से कश्मीर मुद्दे पर चर्चा की
बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के विदेश मंत्रियों के साथ कश्मीर मुद्दे पर बुधवार को चर्चा की थी. सऊदी अरब के विदेश मंत्री अब्देल बिन अहमद अल-जुबैर और संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद बिन सुल्तान अल-नाह्यान वहां पहुंचे थे. खान ने कहा कि सऊदी अरब और यूएई सहित पूरी दुनिया को कश्मीर पर लिए गए भारत के हालिया निर्णय को पलटने का नयी दिल्ली से अनुरोध करने में भूमिका निभानी चाहिए.

इमरान खान के बयान से पलटा पाकिस्‍तान का विदेश मंत्रालय, कहा- परमाणु नीति में कोई बदलाव नहीं

इमरान खान के कार्यालय ने जारी किया ये बयान
खान के कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया कि दोनों देश मौजूदा चुनौतियों का समाधान करने, तनाव को कम करने और शांति और सुरक्षा के माहौल को बढ़ावा देने में मदद करने में सहयोग करेंगे. दोनों मंत्री विदेश कार्यालय भी गए और उन्होंने कुरैशी के साथ एक विस्तृत बैठक की, जिन्होंने उन्हें कश्मीर की ताजा स्थिति के बारे में उन्हें जानकारी दी.