हांगकांग: ब्रिटेन ने फाइनेंशियल टाइम्स के एक वरिष्ठ पत्रकार को काली सूची में डालने के हांगकांग के फैसले पर ‘तत्काल स्पष्टीकरण’ मांगा है. फाइनेंशियल टाइम्स के एशिया समाचार संपादक और ब्रिटिश नागरिक विक्टर मालेट ने आजादी समर्थक राजनीतिक दल के नेता एंडी चान के भाषण का आयोजन कर अधिकारियों की नाराजगी मोल ले ली थी.

संदेहास्पद तरीके से लापता हुए इंटरपोल प्रमुख, चीनी सरकार की हिरासत में !

चान ने शहर के फॉरेन कॉरेस्पॉन्डेंट्स क्लब (एफसीसी) में दिए भाषण में हांगकांग पर ‘कब्जा’ और उसे ‘बर्बाद’ करने की कोशिश करने को लेकर चीन पर हमला बोला था. मालेट एफसीसी के उपाध्यक्ष हैं. चीन के विदेश मंत्रालय ने क्लब से कार्यक्रम नहीं करने का अनुरोध किया था लेकिन एफसीसी ने यह कहकर इनकार कर दिया था कि एक बहस में सभी पक्षों को सुना जाना चाहिए. फाइनेंशियल टाइम्स ने शुक्रवार को बताया कि हांगकांग में आव्रजन अधिकारियों ने मालेट को फिर से वीजा जारी करने से इनकार कर दिया है. मानवाधिकार समूहों और मीडिया संगठनों ने इस फैसले को अभूतपूर्व बताया है.

सितंबर के अंत से ही लापता हैं इंटरपोल के अध्‍यक्ष, फ्रांस से गए थे अपने देश चीन

प्रेस की आजादी उसके जीने के तरीके का अहम हिस्सा
ब्रिटेन के विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय ने एक बयान में कहा कि हमने हांगकांग सरकार से तत्काल स्पष्टीकरण मांगा है. बयान में कहा गया है कि हांगकांग की स्वायत्तता और उसकी प्रेस की आजादी उसके जीने के तरीके का अहम हिस्सा है और इसका पूरी तरह से सम्मान करना चाहिए. अमेरिकी वाणिज्य दूतावास ने कहा कि मालेट को वीजा जारी करने से इनकार करना बेहद परेशान करने वाला फैसला है. बहरहाल, चीन समर्थक मीडिया ने इस फैसले पर खुशी जताई है. ता कुंग पाओ अखबार में शनिवार को प्रकाशित कमेंटरी में कहा गया है कि पत्रकार को हांगकांग की आजादी के गौण आंदोलन को हवा देने की ‘कीमत चुकानी’ पड़ी. हांगकांग प्रशासन ने चान की हांगकांग नेशनल पार्टी को गत सप्ताह प्रतिबंधित कर दिया था और इसे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक खतरा बताया था. (इनपुट एजेंसी)