Omicron News: कोरोना (Corona) के नए वेरिएंट Omicron से पूरी दुनिया डरी हुई है. हर कोई इससे बचने का रास्ता खोज रहा है. इस खतरनाक वेरिएंट के नए-नए मामले अलग-अलग देशों में लगातार मिल रहे हैं. जानकारों का मानना है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) का नय नया वेरिएंट पिछले वेरिएंटों से ज्यादा संक्रामक है. इस बीच कुछ एक्सपर्ट का यह भी मानना है कि यह भले ही पिछले वेरिएंट्स से ज्यादा संक्रामक हो, लेकिन इससे अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु का खतरा कम हो सकता है. हमारे देश में भी पांच राज्यों में Omicron के मामले सामने आ चुके हैं और अब तक 23 लोगों के इससे संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है. इधर एक और डरावनी खबर ब्रिटेन (Britain) से है. ब्रिटेन का कहना है कि इस वायरस का सामुदायिक स्तर पर प्रसार (Community Transmission of Omicron) शुरू हो गया है.Also Read - Corona Update: देशभर में पिछले 24 घंटे में 2.50 लाख से ज्यादा नए मामले, 3.47 लाख ने संक्रमण को मात दी

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जावेद (Health Minister of Britain Sajid Javed) ने सोमवार को संसद में कहा कि कोरोना वायरस के नए स्वरूप Omicron का देश के क्षेत्रों में सामुदायिक स्तर पर प्रसार (Community Spread of Omicron) शुरू हो गया है. जावेद ने हाउस ऑफ कॉमन्स (House of Commons) में कहा कि ताजा आंकड़ों के अनुसार अब तक वायरस के इस नए वेरिएंट के कुल 336 मामले सामने आ चुके हैं. उन्होंने कहा कि इनमें से स्कॉटलैंड (Scotland) में 71 और वेल्स (Wales) में चार मामले सामने आए हैं. Also Read - Omicron in India: विशेषज्ञ बोले - देश में जल्द खत्म होगी तीसरी लहर, साथ ही दी यह हिदायत

ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘‘इनमें ऐसे मामले भी हैं जिनका अंतरराष्ट्रीय यात्रा से कोई संबंध नहीं है. इलसिए हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि अब ब्रिटेन के कई क्षेत्रों में सामुदायिक स्तर पर इसका प्रसार हो रहा है.’’ Also Read - Vaccine नहीं लगवाने वाले लोग कोरोना की तीसरी लहर में ज्यादा प्रभावित, मृत्यु भी ज्यादा

ऊधर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा का कहना है कि दुनिया को वायरस के Omicron वेरिएंट के बारे में बताने के लिए दक्षिण अफ्रीका तथा अन्य अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगाना पाखंडपूर्ण, कठोर और अवैज्ञानिक है.

शांति और सुरक्षा के लिए ‘दकार अंतरराष्ट्रीय मंच’ को संबोधित करते हुए रामाफोसा ने कहा कि इन प्रतिबंधों के माध्यम से उन लोगों और सरकारों को सजा दी जा रही है जिन्होंने विश्व को कोरोना वायरस के इस नए वेरिएंट के बारे में बताया. ज्ञात हो कि Omicron वेरिएंट की पहचान पहली बार दक्षिण अफ्रीका में ही हुई थी. दक्षिण अफ्रीकी डॉक्टरों का कहना है कि अभी तक इसके घातक होने के संकेत नहीं मिले हैं, जबकि Omicron दक्षिण अफ्रीका के सभी राज्यों में फैल चुका है.

(इनपुट – पीटीआई)