बर्मिंघम: नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया पूरी गति से बढ़ रही है और आने वाले महीनों में इसके पूरा हो जाने का अनुमान है. उन्होंने कहा कि एयर इंडिया का बेचा जाना देश के विमानन क्षेत्र के व्यापक हित में है. पुरी ने बर्मिंघम विश्वविद्यालय में शुक्रवार को गुरु नानक के उपदेशों पर भारत संस्थान वार्षिक व्याख्यान दिया. इससे इतर उन्होंने कहा, ‘एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया पूरी गति में है और मैं आने वाले महीनों में इसके पूरा हो जाने की उम्मीद करता हूं.’

उन्होंने इस बार एयर इंडिया की पूरी 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए रखे जाने के संबंध में कहा कि पहले के असफल प्रयासों से सबक सीखा गया है ताकि इस बार सरल प्रक्रिया सुनिश्चित की जा सके. पुरी ने कहा, ‘यह भारतीय विमानन क्षेत्र के हित में है. सरकार को विमान संचालन के कारोबार में नहीं पड़ना चाहिए.’

उन्होंने कहा, वे ऐसा मानते हैं कि आने वाले दशकों में विदेशी निवेशकों के सहयोग से विमानन क्षेत्र भारत की आर्थिक वृद्धि का महत्वपूर्ण वाहक बनकर उभरेगा. उन्होंने कहा, ‘नागर विमानन क्षेत्र भारत के लिये महत्वपूर्ण वृद्धि का क्षेत्र है. मेरा अनुमान है कि आने वाले सालों में कई विदेशी निवेशक इसमें दिलचस्पी दिखाएंगे.’

पुरी ने कहा, ‘मैं उम्मीद कर रहा हूं और मुझे भरोसा है कि ऐसा होगा. अभी हम तीसरे बड़े घरेलू विमानन बाजार हैं लेकिन हम कुल विमानन के हिसाब से भी तीसरा सबसे बड़ा बाजार बनेंगे. हम जिस गति से आगे बढ़ रहे हैं, वैश्विक विमानन क्षेत्र में हमारी हिस्सेदारी सिर्फ बढ़ेगी.’

उन्होंने कहा, ‘अभी हमारी जीडीपी 2.89 हजार अरब डॉलर की है हम धीमा ही सही लेकिन 2024 तक पांच हजार अरब डॉलर और 2030 तक 10 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की राह पर हैं.’ उन्होंने कहा, ‘सभी फ्लैगशिप कार्यक्रम काफी अच्छा कर रहे हैं. स्वच्छ भारत मिशन शानदार तरीके से सफल हुआ है. प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एक करोड़ घरों को 202 तक पूरा करने का लक्ष्य था, लेकिन इसे समयसीमा से काफी पहले ही हासिल कर लिया गया है.’

(इनपुट-भाषा)