जिनेवा: दुनिया के लगभग हर देश ने प्लास्टिक कचरे से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए कानूनी रूप से बाध्य ढांचे पर सहमति जताई है लेकिन अमेरिका इस पर सहमत नहीं हुआ है. संयुक्त राष्ट्र के पर्यावरण अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

पैट्रिक शानहन को रक्षा मंत्री बनाना चाहते हैं राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप: व्हाइट हाउस

प्लास्टिक कचरे और जहरीले रसायनों से जुड़ी संयुक्त राष्ट्र समर्थित संधियों पर दो सप्ताह की बैठक के समापन के मौके पर शुक्रवार को हजारों प्रकार के प्लास्टिक कचरे का पता लगाने संबंधी समझैाता किया गया. बड़े पैमाने पर प्लास्टिक कचरा धरती, समुद्र तथा नदियों में मौजूद है जो वन्य जीवन के लिए खतरा पैदा करता है और कई बार यह जानलेवा होता है.

मोदी सरकार की बड़ी जीत, चीन ने हटाया अड़ंगा, मसूद अजहर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित

एक अधिकारी ने बताया कि अमेरिका जैसे कुछ देश जिन्होंने इस संधि पर हस्ताक्षर नहीं भी किये हैं, वे भी इससे उस समय प्रभावित होंगे जब वे इस समझौते में शामिल देशों को समुद्री मार्ग से प्लास्टिक कचरा भेजेंगे.