संयुक्त राष्ट्र: अमेरिका ने पाकिस्तानी आतंकवादी मसूद अजहर को ‘संयुक्त राष्ट्र 1267 आईएसआईएल और अल कायदा प्रतिबंध सूची’ में शामिल करने के संयुक्त राष्ट्र के फैसले का स्वागत किया है. संयुक्त राष्ट्र में यूएस मिशन के एक प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि संयुक्त राज्य मसूद अजहर को ‘यूएन 1267 आईएसआईएल और अलकायदा प्रतिबंध सूची’ में जोड़े जाने का स्वागत करता है.

मोदी सरकार की बड़ी जीत, चीन ने हटाया अड़ंगा, मसूद अजहर ग्लोबल टेररिस्ट घोषित

बयान के अनुसार, “इसके लिए संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों को अजहर की संपत्तियों को जब्त करने, उसके यात्रा करने पर प्रतिबंध लगाने की जरूरत. उम्मीद है कि सभी देश इनका पालन करेंगे. बयान के अनुसार, जैश-ए-मोहम्मद संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा घोषित आतंकवादी संगठन है और इसके संस्थापक और प्रमुख नेता के तौर पर अजहर स्पष्ट रूप से संयुक्त राष्ट्र के इन मापदंडों के अंतर्गत आता है. बयान में आगे लिखा है कि जैश कई आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार है और क्षेत्रीय स्थिरता और शांति के लिए गंभीर खतरा है. हम पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के उस बयान में जताई गई प्रतिबद्धता की सराहना करते हैं कि पाकिस्तान, अपने भविष्य के लिए, अपनी जमीना से उग्रवादी और आतंकवादी संगठनों के संचालन नहीं होने देगा.

…तो इस कारण ‘मजबूर’ हुआ चीन, जानिए क्या है मसूद पर प्रतिबंध में पड़ोसी देश की भूमिका

भारत को बड़ी कूटनीतिक जीत
इसके अनुसार, “हम इस संबंध में पाकिस्तान सरकार द्वारा उठाए गए शुरुआती कदमों को स्वीकार करते हैं. हम आगे भी पाकिस्तान द्वारा, जैसा कि उसकी राष्ट्रीय कार्य योजना में दिया गया है, लगातार कार्रवाइयों की उम्मीद करते हैं. भारत को बड़ी कूटनीतिक जीत और पाकिस्तान को झटका देते हुए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने बुधवार को जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया. संयुक्त राष्ट्र में यह मामला चीन 10 सालों से रोके हुए था. प्रतिबंध समिति के पाकिस्तान में रह रहे अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के तुरंत बाद पाकिस्तान ने घोषणा करते हुए कहा कि वह इस आदेश का पालन करेगा. (इनपुट एजेंसी)