बर्लिन: अमेरिका के सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के फैसले के बीच उपजे विवाद में फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रो ने जहां अमेरिका की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए वहीँ जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने सीरिया से सैनिकों को वापस बुलाने के अमेरिका के फैसले के मद्देनजर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन से संयम और जिम्मेदारी से कार्य करने की सलाह दी है. सिन्हुआ के अनुसार, जर्मन चांसलर कार्यालय की ओर जारी बयान में कहा गया कि दोनों नेताओं के बीच रविवार की टेलीफोन वार्ता का केंद्र सीरिया रहा.

सीरिया से अमेरिकी सेना की वापसी के आदेश, मैक्रों ने अमेरिका की विश्वसनीयता पर उठाए सवाल

खतरा बना हुआ है
इस दौरान दोनों पक्षों ने सीरिया में संघर्ष को समाप्त करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व वाली राजनीतिक प्रक्रिया के महत्व पर बल दिया. बयान के अनुसार, आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) को हालांकि पीछे धकेल दिया गया है लेकिन यह एक बड़ा खतरा बना हुआ है जिस पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है. मर्केल ने तुर्की की भूमिका की, विशेष रूप से सीरिया के शरणार्थियों को समायोजित करने की सराहना की और उम्मीद जताई कि तुर्की सीरिया से अमेरिकी सैनिकों की वापसी की घोषणा पर संयम और जिम्मेदारी के साथ प्रतिक्रिया करेगा. (इनपुट भाषा)

अफगानिस्तान-अमेरिका के नए डेवलमेंट से भारत पर पड़ेगा ये असर, अरबों का निवेश अधर में