वॉशिंगटन: अमेरिकी संसद कैपिटल बिल्‍ड‍िंग में हुई हिंसा के बाद डोनाल्‍ड ट्रंप के खिलाफ न केवल उनकी विरोधी पार्टी बल्कि उनकी स्‍वयं की पार्टी के सांसद भी उनके खिलाफ खड़े हो गए हैं. अब अमेरिका में डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन दोनों पार्टियों के सांसद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हटाने की मांग कर रहे हैं. इस बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों के हंगामे से आहत कैबिनेट की दो महिला सदस्यों शिक्षा मंत्री बेटसे देवोस और परिवहन मंत्री इलेन चाओ ने इस्तीफा दे दिया है.  इससे पहले प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने कहा कि अगर ट्रंप को नहीं हटाया गया तो प्रतिनिधि सभा उनके खिलाफ दूसरा महाभियोग प्रस्ताव लाने पर विचार करेगी. ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी 25वें संशोधन की धारा चार के तहत अपनी ही कैबिनेट से उन्हें जबरन हटाने की संभावना पर गौर कर रहे हैं. वहीं, कैपिटल पुलिस के पुलिस प्रमुख ने अपने इस्‍तीफे की घोषणा की है.Also Read - PM मोदी से ऐसी गर्मजोशी से मिले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, दुनिया देख रही ये वीडियो

खास बात है कि रिपब्लिकन पार्टी के करीब 100 सांसद ऐसे हैं, जिन्होंने हिंसक घटनाओं के लिए सीधे तौर पर अपने नेता और राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप को जिम्मेदार ठहराया है. Also Read - विदेश मंत्री एस जयशंकर का बड़ा बयान- पाकिस्‍तान को अमेरिकी समर्थन भी भारत-पाक विवादों की एक वजह

बता दें कि ट्रंप का कार्यकाल पूरा होने में दो सप्ताह से भी कम समय रह गया है, फिर भी सांसद और यहां तक कि उनके प्रशासन के कुछ लोग भी बुधवार की हिंसा को लेकर यह चर्चा कर रहे हैं, क्योंकि पहले तो ट्रंप ने यूएस कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) में अपने समर्थकों के हिंसक हंगामे की निंदा करने से इनकार किया और बाद में इस पर सफाई देते दिखे. Also Read - अमेरिका पहुंचने वाले लोगों के लिए COVID-19 टेस्ट जरूरी नहीं, बाइडन सरकार ने हटाई पाबंदी

हिंसा की घटना से आहत ट्रंप के दो मंत्र‍ियों ने दिया इस्तीफा
अमेरिका के कैपिटल (संसद भवन) में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों के हंगामे से आहत कैबिनेट की दो महिला सदस्यों शिक्षा मंत्री बेटसे देवोस और परिवहन मंत्री इलेन चाओ ने इस्तीफा दे दिया है.

यह बर्ताव देश के लिए बिल्कुल अनुचित है: शिक्षा मंत्री
शिक्षा मंत्री बेटसे देवोस का इस्तीफा शुक्रवार से प्रभाव में आ गया. उन्होंने कहा, ”कैपिटल हिल पर हमला उनके लिए निर्णायक रहा. राष्ट्रपति ट्रंप को बृहस्पतिवार को भेजे अपने इस्तीफे में देवोस ने कहा, ”यह बर्ताव देश के लिए बिल्कुल अनुचित है. इसमें कुछ गलत नहीं है कि आपके बयानों का प्रभाव पड़ा. यह मेरे लिए निर्णायक रहा.

परिवहन मंत्री चाओ का इस्‍तीफा- इस घटना से मुझे बहुत ठेस पहुंची है
इससे पूर्व परिवहन मंत्री चाओ ने भी अपने इस्तीफे की घोषणा की. चाओ ने बृहस्पतिवार को अपने कर्मियों को भेजे ईमेल में कहा, ”कैपिटल बिल्डिंग में ट्रंप के अपने समर्थकों की रैली को संबोधित करने के बाद देश के लिए दुखद और असमान्य हालात पैदा हो गए. इस घटना से मुझे बहुत ठेस पहुंची है और मुझे यकीन है कि आप सब भी आहत हुए होंगे.” चाओ का इस्तीफा सोमवार से प्रभाव में आएगा.

व्हाइट हाउस के कई वरिष्ठ अधिकारियों ने इस्तीफा दिया
हिंसा की घटना के बाद व्हाइट हाउस के कई वरिष्ठ अधिकारियों ने इस्तीफा दिया है. इस्तीफा देने वालों में प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप की चीफ ऑफ स्टाफ स्टीफनी ग्रिशम, व्हाइट हाउस की उप प्रेस सचिव सारा मैथ्यूज और व्हाइट हाउस की सामाजिक मंत्री रिकी निसेटा शामिल हैं. नॉदर्न आयरलैंड के लिए अमेरिका के विशेष दूत एवं व्हाइट हाउस के पूर्व चीफ ऑफ स्टाफ माइक मुलवेनी ने भी इस्तीफा दे दिया है.

ट्रंप समर्थकों के खिलाफ आरोप तय करने की तैयारी, राजद्रोह का आरोप भी लग सकता है
अमेरिका के कोलंबिया जिले के एक शीर्ष संघीय अभियोजक ने कहा है कि कैपिटल बिल्डिंग (अमेरिकी संसद भवन) में हिंसा करने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों के खिलाफ आरोप तय करने के लिए सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है.

ट्रंप को 25वें संशोधन की धारा चार के तहत जबरन हटाया जा सकता है 
वहीं, ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी 25वें संशोधन की धारा चार के तहत अपनी ही कैबिनेट से उन्हें जबरन हटाने की संभावना पर गौर कर रहे हैं. पेलोसी ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि वह उपराष्ट्रपति माइक पेंस और कैबिनेट के अन्य अधिकारियों के फैसले का इंतजार कर रही हैं. उन्होंने विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ और वित्त मंत्री स्टीव मनुचिन को चुनौती दी.

पेलोसी ने पूछा, ”क्या वे इन कार्रवाइयों में साथ देंगे? क्या वे इस बात के लिए तैयार हैं कि अगले 13 दिन में यह खतरनाक शख्स हमारे देश को नुकसान पहुंचाने के लिए कुछ भी कर सके.” पेलोसी ने कहा कि ट्रंप को अब कुछ भी करने की इजाजत नहीं दी जा सकती.

हिंसा के लिए डेमोक्रेट और रिपब्लिकन नेताओं ने ट्रंप को जिम्मेदार बताया
कैपिटल में बुधवार को हुए हंगामे को लेकर अधिकतर डेमोक्रेट और रिपब्लिकन नेताओं ने ट्रंप को जिम्मेदार बताया है. सीनेट में डेमोक्रेटिक नेता चक शूमर ने भी कैबिनेट से ट्रंप को हटाने का आह्वान किया. उन्होंने कहा, ”अगर उपराष्ट्रपति और कैबिनेट ने इस पर फैसला नहीं लिया तो कांग्रेस उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाएगी.”

शीर्ष सहयोगी ने कहा- राष्ट्रपति को हिंसा में अपनी भूमिका स्वीकार लेनी चाहिए
इस बीच ट्रंप के एक शीर्ष सहयोगी सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने कहा है कि राष्ट्रपति को हिंसा में अपनी भूमिका स्वीकार लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि उन्हें ट्रंप का सहयोग करने पर कोई पछतावा नहीं है, लेकिन यह पूरा मामला उनका खुद का किया है. उन्होंने कहा, ”जब बात जवाबदेही की आती है तो राष्ट्रपति को यह समझना चाहिए कि उनकी कार्रवाई समस्या है समाधान नहीं.”