वॉशिंगटन/नई दिल्ली। अमेरिका ने सोमवार को हिज़बुल मुजाहिदीन के मुखिया युसुफ शाह उर्फ सैयद सलाहुद्दीन को ग्लोबल टेररिस्ट (वैश्विक आतंकी) घोषित कर दिया. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि सितंबर, 2016 में सलाहुद्दीन ने कश्मीर मसले की किसी शांतिपूर्ण समाधान की कोशिश को बाधित करने का संकल्प लिया था. अधिक से अधिक कश्मीरी युवाओं को आत्मघाती हमलावर बनाने की चेतावनी दी थी और कश्मीर घाटी को ‘भारतीय सुरक्षाबलों के लिए कब्रगाह में तब्दील करने का संकल्प भी लिया था. Also Read - क्या भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं सौरव गांगुली? बंगाल चुनाव से पहले दादा ने खुद किया बड़ा खुलासा

अमेरिका ने सोमवार को अपने आधिकारिक बयान में कहा कि सैयद सलाहुद्दीन को विशेष घोषित वैश्विक आतंकी (SDGT) की श्रेणी में सेक्शन 1बी और आदेश संख्या 13224 के अंतर्गत रखा जाता है. यह श्रेणी ऐसे विदेशी व्यक्ति के लिए है जो किसी ना किसी रूप में आतंक से जुड़ा है और अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेश नीति और अर्थव्यवस्था को खतरा है. Also Read - पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी से होगी शाहिद अफरीदी की बेटी की सगाई, परिवार ने की पुष्टि

इस फैसले का व्यापक प्रभाव
अमेरिकी विदेश मंत्रालय के बयान के मुताबिक इस घोषणा के बाद किसी भी अमेरिकी नागरिक के सलाहुद्दीन के साथ किसी तरह के लेनदेन पर पाबंदी होगी. इसके साथ ही अमेरिकी न्यायिक क्षेत्र के अंतगर्त आने वाली सलाहुद्दीन की सारी संपत्ति ब्लॉक हो जाएगी. सीधे शब्दों में कहें तो सलाहुद्दीन को विशेष सूची में डालने से अमेरिकी वित्तीय व्यवस्था तक उसकी पहुंच खत्म हो जाएगी. यूएस डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट की आधिकारिक विज्ञप्ति देखने के लिए यहां क्लिक करें. Also Read - शर्मनाक हार के बाद बोले Joe Root, 'पहला मैच तो ठीक था, लेकिन बाकी में हम Team India की बराबरी नहीं कर पाए'

कौन है सैयद सलाहुद्दीन?
सलाहुद्दीन आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का चीफ है. भारत के खिलाफ लगातार जहर उगलने वाला सलाहुद्दीन का संगठन हिजबुल कश्मीर समेत पूरे देश में कई बार कायराना हमले करा चुका है. अप्रैल 2014 में जम्मू कश्मीर में हुए बम धमाकों की जिम्मेदारी भी सैयद सलाहुद्दीन के आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन ने ही ली थी. इस हमले में 17 लोग घायल हुए थे.

अमेरिका का यह क़दम सीधे तौर पर पाकिस्तान के लिए भी चेतावनी है. अमेरिका ने साफ किया है कि आतंकवाद को पनाह देने वालों को भी बख्शा नहीं जाएगा. ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि क्या अब पाकिस्तान हिजबुल मुजाहिदीन पर कार्रवाई करेगा?