वाशिंगटन| अमेरिका ने भारतीय मूल के इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी सिद्धार्थ धर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है. माना जाता है कि धर ने संगठन के खूंखार आतंकवादी मोहम्मद एमवाजी की जगह ली है. इस्लाम धर्म अपनाने वाला ब्रिटिश हिन्दू धर अब अबू रुमायसाह के नाम से जाना जाता है. धर ब्रिटेन में पुलिस जमानत से फरार होकर अपनी पत्नी और बच्चों के साथ 2014 में सीरिया चला गया था. Also Read - यूपी सहित देश के इन 12 राज्यों में सक्रिय है आतंकी संगठन आईएस, सरकार ने संसद में दी जानकारी

विदेश विभाग ने कहा कि माना जाता है कि वह जनवरी 2016 में आईएसआईएस के उस वीडियो में नकाबपोश आतंकी था जिसमें ब्रिटेन के लिए जासूसी के आरोपी कई कैदियों की जान ली गई थी. अमेरिका ने धर के साथ बेल्जियम. मोरक्को नागरिक अब्देलतीफ गाइनी को भी वैश्विक आतंकवादी घोषित किया. Also Read - आतंकी संगठन आईएस ने ली लंदन ब्रिज हमले की जिम्मेदारी

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि अमेरिका ने आईएसआईएस के दो सदस्यों को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया और उन पर अमेरिकी नागरिकों या राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरनाक आतंकवादी कृत्यों का जोखिम पैदा करने या इनको अंजाम देने पर प्रतिबंध लगाया गया. Also Read - माली: इस्लामिक स्टेट ने ली सैन्य ठिकानों पर हुए ‘‘आतंकवादी हमले’’ की जिम्मेदारी

धर को नया जेहादी जॉन कहा जाता है और वह प्रतिबंधित संगठन का वरिष्ठ कमांडर बन गया है. रिपोर्ट में कहा गया कि माना जाता है कि उसने आईएसआईएस के ‘जेहादी जॉन’ कहे जाने वाले आतंकवादी एमवाजी की जगह ली है.