अमेरिका में हो रहे राष्टपति चुनाव पर इस वक्त पूरी दुनिया की नजर है। वैसे तो अमेरिका में हर चार साल बाद राष्ट्रपति चुनाव होता है, लेकिन इस बार का चुनाव मील का पत्थर साबित होगा। वजह यह कि सवा दो सौ साल के संवैधानिक इतिहास में वहां किसी महिला के राष्ट्रपति बनने की बात तो दूर, उम्मीदवार तक बनने का मौका नहीं मिला था। इस वक्त पुरे अमेरिका में चुनाव की गरमी को पूरी दुनिया महसूस कर रहा है। आपको बता दें की अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की मतगणना शुरू हो चुकी है।

आपको बता दें की अमेरिका के 6 राज्यों में चुनाव शांति पूर्वक खत्म हो चूका है और जो जानाकारी अब सामने आ रही है उसके अनुसार डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ 150-130 से हिलेरी क्लिंटन आगे चल रही हैं। माना जा रहा है इस बार का अमेरिका में काफी टफ है। दोनों प्रतिद्वंद्वी काफी मजबूत माने जा रहे हैं। जहां एक तरफ साउथ कैरोलीना और टेनिसी में डोनाल्ड ट्रंप ने बाजी मारी है तो दूसरी तरफ डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया में हिलेरी की जीत हुई है। यही नही जानकारी के मुताबिक डोनाल्ड ट्रंप ने केन्टकी, इंडियाना और वेस्ट वर्जीनिया जीत हासिल कर चुके है।

दूसरी तरफ हिलेरी क्लिंटन ने ट्रंप को पीछे रखते हुए वरमॉन्ट में बढ़त हासिल की है। इस चुनाव में काफी नजदीकी मामला देखने को मिल सकता है क्योंकि ट्रंप कई जगहों पर हिलेरी से आगे है और अगर वो चुनकर आते है तो यह अपने आप किसी धामके से कम नही होगा। यह भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव: आज 30 करोड़ लोग चुनेंगे अपना नया प्रेसिडेंट

वहीं दूसरी तरफ ऐसा पहली बार हुआ है की महिला के रूप में प्रथम उम्मीदवार बनने का सौभाग्य हिलेरी क्लिंटन को मिला है। वह डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से किस्मत आजमा रही हैं। रिपब्लिकन पार्टी के प्रत्याशी डोनाल्ड ट्रंप भी चर्चा का रिकार्ड रहे हैं। ट्रंप आतंकवाद को लेकर एक धर्म विशेष के प्रति असहिष्णुता उजागर कर रहे हैं। फिलहाल अभी भी इस चुनाव के परिणाम में थोडा समय है लेकिन जो जीतेगा वह अमेरिका का नया राष्ट्रपति बनकर पदभार संभालेगा।