वाशिंगटन: अमेरिकी सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट माइक पोम्पियो ने गुरुवार को उत्तर कोरिया के नए प्रतिनिधि के तौर पर स्टीफन बिगुन को नियुक्त करने की घोषणा की. पोम्पियो ने संवाददाताओं को बताया कि बिगुन की नियुक्ति बहुत सही समय पर की जा रही है और दोनों ट्रम्प सरकार के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अगले सप्ताह उत्तर कोरिया जाएंगे.

चीन में पत्रकारों पर पाबंदियों का असर अमेरिका में चीनी मीडिया की आजादी पर भी पड़ सकता है: अमेरिका

उत्तर कोरिया की समस्या का हल है ट्रम्प की प्राथमिकता
पोम्पियो ने कहा, “विशेष प्रतिनिधि के तौर पर स्टीफन वार्ता का नेतृत्व करेंगे और हमारे साझेदारों के साथ राजनयिक प्रयासों को आगे बढ़ाएंगे. उन्होंने कहा कि ‘उत्तर कोरिया से मिल रहे खतरे को राजनयिक तरीके से सुलझाना राष्ट्रपति ट्रंप की प्राथमिकताओं में से एक है और स्टीफन इस काम के लिए बिल्कुल योग्य हैं.’ परमाणु निरस्त्रीकरण, कोरियाई प्रायद्वीप पर शांति बनाए रखने के संबंध में द्विपक्षीय वार्ता को और सुगम बनाने के लिए गुरुवार को यह नियुक्ति की गई.

बिगुन ने कहा कि वह इस काम के महत्व को पूर्ण रूप से समझते हैं. उन्होंने कहा, “यह मुद्दे जटिल हैं लेकिन वे इन्हें सुलझाएंगे. राष्ट्रपति ने शुरुआत कर दी है और हमें उत्तर कोरिया के लोगों के लिए एक शांतिपूर्ण भविष्य के लिए हरसंभव अवसर का उपयोग करना होगा. सिंगापुर में राष्ट्रपति ट्रम्प से नार्थ कोरिया के अध्यक्ष किम जोंग उन ने परमाणु निरस्त्रीकरण का जो वादा किया था, उसे पूरा करना प्राथमिकता रहेगी.”

पूर्व प्रतिनिधि बातचीत से चाहते थे हल
बिगुन जोसफ यून का स्थान लेंगें, जिन्होंने व्यक्तिगत कारणों से इस्तीफ़ा दे दिया था. अमेरिकी मीडिया का मानना है कि यून कोरियाई समस्या को समझौते और बातचीत से सुलझाने में विश्वास रखते थे और यही उनके इस्तीफे की भी वजह रही है.

अमेरिका- चीन के बीच ट्रेड टॉक बिना किसी नतीजे के खत्म

अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने 19 अगस्त को माइक पोम्पियो के नार्थ कोरिया दौरे की घोषणा की थी. माइक पोम्पियो का ये चौथा दौरा होगा. उम्मीद जताई जा रही है कि किम जोंग उन से भी उनकी मुलाकात हो सकती है.

स्टीफन बिगुन फोर्ड मोटर कम्पनी के वाइस प्रेसिडेंट रहे हैं और 2001 से 2003 तक नेशनल सिक्यूरिटी काउंसिल के एग्जीक्यूटिव सेक्रेटरी भी रह चुके हैं. पूर्व सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट कोंडोलीजा राइस के साथ भी उन्होंने कार्य किया है.