Covid-19 test in India: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए उनके प्रशासन द्वारा किए जा रहे प्रयासों का जिक्र करते हुए कहा कि दुनिया में कोविड-19 संबंधी जांच की संख्या के मामले में अमेरिका पहले और भारत दूसरे नंबर पर है. अमेरिका में अभी तक 1,40,000 से अधिक लोगों की कोविड-19 से जान जा चुकी है और संक्रमण के 38 लाख मामले सामने आए हैं.Also Read - Jammu Kashmir: बर्फ से ढके पहाड़ों पर 7-8 घंटे पैदल चलकर लगाने जाते हैं कोरोना वैक्सीन, तस्वीरें देख स्वास्थ्यकर्मियों को करेंगे सलाम!

ट्रम्प ने कोरोना वायरस की जानकारी देने के लिए कई सप्ताह बाद व्हाइट हाउस में आयोजित किए गए संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम संक्रमण के कारण मारे गए लोगों के लिए एक परिवार के तौर पर शोक मनाते हैं. मैं उनके सम्मान में संकल्प करता हूं कि हम टीका बनाएंगे और वायरस को मात देंगे. हम टीका बनाने और चिकित्सीय निदान ढूंढने की दिशा में बेहतर कर रहे हैं.’’ Also Read - कोरोना वायरस से संक्रमित हुए Harbhajan Singh, घर में ही किया गया क्‍वारंटीन

ट्रम्प ने कहा, ‘‘हमने वायरस के बारे में बहुत कुछ जान लिया है. हमें पता है कि कौन खतरे में हैं और हम उनकी रक्षा करेंगे.’’ Also Read - Revised Guidelines: कोरोना पर सरकार की संशोधित गाइडलाइंस- 5 साल से कम उम्र के बच्चों का मास्क लगाना जरूरी नहीं

ट्रम्प ने आश्वासन दिया कि कोरोना वायरस का टीका उम्मीद से काफी पहले आ जाएगा.

उन्होंने कोविड-19 की जांच के संबंध में किए गए सवाल के जवाब में कहा कि अमेरिका इसमें ‘सबसे आगे’ है.

उन्होंने कहा, ‘‘हम जल्द ही पांच करोड़ का आंकड़ा पार कर देंगे. दूसरे नंबर पर भारत है, जिसने 1.2 करोड़ जांच की हैं. मुझे लगता है कि हम व्यापक स्तर पर जांच कर रहे हैं.’’

वहीं एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वायरस की स्थिति बेहतर होने से पहले बदतर हो सकती है. उन्होंने कहा, ‘‘यह दुर्भाग्यवश, बेहतर होने से पहले बदतर हो सकती है.’’

इस दौरान ट्रम्प ने कई बार वायरस को ‘चीनी वायरस’ भी कहा. राष्ट्रपति ने मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील भी की. उन्होंने कहा, ‘‘आपको अच्छा लगे या नहीं, लेकिन इससे फायदा हो रहा है.’’