वाशिंगटन: अमेरिका के एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान यदि अपने देश में सक्रिय आतंकवादी समूहों के खिलाफ ‘निर्णायक’ और ‘निरंतर’ कार्रवाई करे तो उनका देश उसे दी जाने वाली सहायता पर लगी रोक हटा सकता है. Also Read - विपक्ष की रैलियां से डरे इमरान खान, बोले- पूरे पाकिस्तान में लगा दूंगा लॉकडाउन

अमेरिका के उप विदेश मंत्री जॉन सुलिवान ने अफगानिस्तान मामले पर सीनेट की विदेश मामलों की समिति की सुनवायी के दौरान कहा कि वह पाकिस्तान को आतंकवादियों को पनाहगाह मुहैया कराने से इनकार करने में उसकी विफलता के लिए जवाबदेह बनाना चाहते हैं. Also Read - पाकिस्तान ने LOC पर गांवों और चौकियों को फिर बनाया निशाना, इस साल अब तक चार हज़ार बार कर चुका है संघर्ष विराम का उलंघन

उन्होंने कहा, ‘‘हम सहायता पर लगायी गई रोक हटाने पर विचार कर सकते हैं, यदि हम उसके देश में सक्रिय आतंकवादी समूहों के खिलाफ बिना भेदभाव के ‘निर्णायक’ और ‘निरंतर’ कार्रवाई देखें. Also Read - Nagrota Encounter: नगरोटा मुठभेड़ के बाद भारत के तेवर सख्त, पाकिस्तानी हाई कमीशन अधिकारी को किया गया तलब

बता दें पिछले महीने की एक तारीख को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा था ‘‘अमेरिका ने मूर्खतापूर्ण तरीके से पाकिस्तान को बीते 15 सालों में 33 अरब डॉलर से अधिक की सहायता दी और उन्होंने हमारे नेताओं को मूर्ख समझा. हमें ‘झूठ और धोखे’ के अलावा कुछ भी नहीं दिया.’’ इसके बाद अमेरिकी सरकार ने पाकिस्तान को दी जा रही 255 मिलियन अमेरिकी डॉलर (16.24 अरब रुपये) की मदद रोक दी थी.