वाशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी नौसैना के एक पोत ने होर्म्ज जलडमरूमध्य में एक ईरानी ड्रोन को मार गिराया है, जो उसकी सीमा के काफी करीब आ गया था. अमेरिका के इस कदम से दोनों देश के बीच पहले से ही चल रहे तनाव के और बढ़ जाने की आशंका है. पेंटागन के मुख्य प्रवक्ता जोनाथन होफ्फमेन ने गुरुवार को कहा कि यह घटना स्थानीय समयानुसार सुबह करीब 10 बजे हुई, जब अमेरिकी युद्धपोत यूएसएस बॉक्सर अंतरराष्ट्रीय जलक्षेत्र में जलडमरूमध्य से गुजर रहा था. Also Read - School Reopen: कोरोना के कहर के बीच यहां खुले स्कूल, प्लास्टिक टेंट  में 'कैद' होकर पढ़ते बच्चों की तस्वीर वायरल

ट्रंप ने कहा कि युद्धपोत बॉक्सर को ईरानी ड्रोन पर यह रक्षात्मक कार्रवाई इसलिए करनी पड़ी क्योंकि वह बहुत नजदीक आ गया था, तकरीबन 1000 यार्ड की दूरी पर. उन्होंने कहा कि इस ड्रोन से कई बार वापस जाने को कहा गया लेकिन वह इसे नजरअंदाज करता रहा तथा पोत एवं चालक दल के सदस्यों की सुरक्षा को खतरे में डाल रहा था. Also Read - मास्को से तेहरान रवाना हुए राजनाथ सिंह, ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमिर हातमी से करेंगे मुलाकात

राष्ट्रपति ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, ‘ड्रोन को तत्काल मार गिराया गया. अंतरराष्ट्रीय जल क्षेत्र में पोतों के संचालन के खिलाफ यह ईरान के उकसावे एवं शत्रुतापूर्ण हरकतों में से सबसे नई घटना है.’ Also Read - इजराइल के साथ समझौते के बाद यूएई को ईरान ने दी खतरनाक परिणाम भुगतने की धमकी

होफ्फमेन ने कहा कि इस मानव रहित विमान (ड्रोन) को पोत एवं उसके चालक दल के सदस्यों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के कारण मार गिराया गया क्योंकि यह बहुत करीब आ गया था. ट्रंप ने इस बात पर जोर दिया कि अमेरिका अपने कर्मियों, संस्थाओं एवं हितों की रक्षा का अधिकार रखता है. साथ ही उन्होंने सभी देशों से ईरान की इस हरकत की निंदा करने की भी अपील की जिसके बारे में उनका कहना है कि यह नौवहन एवं वैश्विक वाणिज्य की स्वतंत्रता को बाधित करने का ईरान का प्रयास है.