वॉशिंगटन। व्हाइट हाउस ने आज कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक नई मंत्रीस्तरीय वार्ता का तंत्र शुरू कर हिंद- प्रशांत महासागर क्षेत्र में शांति और स्थिरता बढ़ाने पर सहमत हुए हैं जो दोनों देशों के रणनीतिक विचार विमर्श को आगे ले जाएगा. Also Read - बिहार चुनाव! 14,000 करोड़ रुपये की लागत वाली परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी

ट्रंप ने भारत की स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर मोदी को बधाई देने के लिए सोमवार रात उन्हें फोन किया था. फोन पर ट्रंप ने अमेरिका से भारत को कच्चे तेल की पहली खेप भेजे जाने के कदम का स्वागत किया, जो इस महीने टेक्सास से शुरू होगी. व्हाइट हाउस ने दोनों नेताओं के फोन कॉल का विवरण देते हुए बताया कि ट्रंप ने वादा किया कि भारत को अमेरिका ऊर्जा की विश्वसनीय और दीर्घकालीन आपूर्ति जारी रखेगा. Also Read - चीन ने दूसरे दिन ताइवान के जलडमरु मध्‍य के ऊपर 19 फाइटर जेट उड़ाए, US को लेकर दी धमकी

व्हाइट हाउस ने तंत्र का ब्योरा देते हुए कहा कि नेताओं ने एक मंत्रीस्तरीय वार्ता का तंत्र शुरू कर हिंद- प्रशांत क्षेत्र में शांति एवं सुरक्षा बढ़ाने का संकल्प लिया जो रणनीतिक परामर्श को बढ़ाएगा. इसने बताया कि ट्रंप और मोदी इस नवंबर में वैश्विक स्व उद्यमी सम्मेलन के लिए उत्सुक हैं. ट्रंप ने अपनी बेटी और सलाहकार इवांका ट्रंप से सम्मेलन के लिए अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने को कहा है. Also Read - Coronavirus Vaccine Updates: ट्रंप को उम्मीद- अप्रैल 2021 तक 'हर अमेरिकी' के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होगी Covid-19 Vaccine

इसने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर कोरिया की हकरतों के खिलाफ दुनिया को एकजुट करने में उनके मजबूत नेतृत्व को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप का शुक्रिया अदा किया. गौरतलब है कि ट्रंप ने हाल ही में उत्तर कोरिया को चेतावनी दी थी कि अगर उसने अमेरिकी सरजमीं पर हमला किया तो उसे गंभीर अंजाम भुगतने होंगे.

अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने स्वतंत्रता दिवस पर भारत के लोगों को अपनी शुभकामनाएं दीं. उन्होंने कहा कि अमेरिका दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के लोगों के साथ खड़ा होकर गौरवान्वित है. टिलरसन ने कहा कि अमेरिका – भारत संबंध के लिए प्रधानमंत्री मोदी का महत्वाकांक्षी दृष्टिकोण 21 वीं सदी में हमारे साझा हितों को आगे बढ़ाने के लिए काफी मायने रखता है.

उन्होंने भारत के स्वतंत्रता दिवस पर बधाई देने के लिए अपनी भारतीय समकक्ष सुषमा स्वराज को फोन किया. इस दौरान सुषमा ने दोनों देशों के बीच विदेश और रक्षा संबंधों में व्यापक तालेमल के उपायों पर चर्चा की.

चीन को अखरेगा  

दें कि हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की गतिविधियां काफी बढ़ गई हैं. भारत भी यहां मजबूत स्थिति में है, लेकिन चीन की गतिविधियों ने भारत को अलर्ट कर दिया है. ऐसे में ट्रंप का मोदी का फोन करना चीन को निश्चित रूप से अखर सकता है.

हालांकि हाल ही में चीन ने ये पेशकश कर चौंकाया है कि वह भारत के साथ मिलकर हिंद महासागर की सुरक्षा करना चाहता है. चीनी नौसेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भारतीय पत्रकारों के दल से कहा कि हमारे ऊपर लोग सीमा विस्तार का बेबुनियाद आरोप लगाते हैं, हम तो केवल अपनी सीमा की रक्षा करते हैं. चीनी अधिकारी ने आगे कहा कि हिंद महासागर में हमें भारत का साथ चाहिए, इसके लिए हम लगातार प्रयास में हैं.
(भाषा इनपुट)