वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पुष्टि की है कि पिछले महीने यमन में अमेरिकी सेना द्वारा किए गए एक ऑपरेशन में अलकायदा का सरगना कासिम अल-रिमी मारा गया. कासिम ‘अलकायदा इन अरब पेनिंसुला’ (एक्यूएपी) का संस्थापक था. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, व्हाइट हाउस ने गुरुवार को ट्रंप का बयान जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा कि अमेरिका ने यमन में एक आतंकवाद रोधी अभियान चलाया, जिसने अरब प्रायद्वीप में अलकायदा के संस्थापक और अलकायदा के सरगना कासिम अल-रिमी को सफलतापूर्वक मार गिराया. Also Read - डोनाल्ड ट्रंप के समय के एच-1बी वीजा प्रतिबंध समाप्त हुए, भारतीय आईटी पेशेवरों को राहत

समाचार एजेंसी एफे के अनुसार, ट्रंप ने कहा कि अल-रिमी 1990 के दशक से, ओसामा बिन लादेन के लिए अफगानिस्तान में काम कर रहा था और उसकी निगरानी में “अलकायदा यमन में नागरिकों के खिलाफ अकारण हिंसा कर रहा था और अमेरिका व हमारी सेना के खिलाफ कई हमलों का संचालन करना और हमले के लिए प्रेरित करना चाहा. कासिम की मौत अलकायदा शाखा और इसकी वैश्विक गतिविधि के लिए झटका है. ट्रंप ने कहा कि अमेरिका, हमारे हित, और हमारे सहयोगी उसकी मौत के परिणामस्वरूप सुरक्षित हैं. हमें नुकसान पहुंचाने की मंशा रखने वाले आतंकियों को हम ट्रैक करके और खत्म करके अमेरिकी लोगों की रक्षा करना हम जारी रखेंगे. Also Read - फेसबुक ने डोनाल्ड ट्रंप को दोबारा हटाया, पूर्व राष्ट्रपति ने अपनी बहू के पेज से ली थी एंट्री

जनवरी में हवाई हमले में सरगना को मार गिराया
41 वर्षीय कासिम अल-रिमी की मौत समूह के लिए एक बड़ा झटका है, जिसे अलकायदा के सबसे खतरनाक शाखा में से एक माना जाता रहा है, क्योंकि इसने यमन में सीमाओं से परे जाकर हमले किए हैं. समाचार पत्र न्यूयॉर्क टाइम्स ने पिछले हफ्ते खबर दी थी कि अमेरिकी अधिकारियों का मानना है कि हवाई निगरानी और अन्य खुफिया जानकारी का इस्तेमाल करने के महीनों बाद जनवरी में हवाई हमले में उन्होंने सरगना को मार गिराया था. Also Read - Quad: जो बाइडन ने कहा- इंडो-पैसिफिक क्षेत्र को मुक्‍त रखने की चुनौत‍ियों का मिलकर सामना करेंगे यूएस, जापान, भारत और ऑस्‍ट्रेलिया