US President, Donald Trump, Mob violence, us capitol violence, impeachment, Joe Biden, latest NEWS: पिछले हफ्ते अमेरिकी संसद भवन यूएस कैपिटल में हुई हिंसा के मामले में राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (निचले सदन) में महाभियोग चलाने का प्रस्ताव पारित हो गया है. इस प्रस्‍ताव के पारित होने के बाद ट्रंप अमेरिकी इतिहास में ऐसे राष्‍ट्रपति हो गए हैं, जिनके खिलाफ दूसरी बार अभियोग चलेगा. Also Read - Joe Biden के शपथ ग्रहण समारोह को लेकर अलर्ट, हो सकता है IED विस्फोट

वहीं, यूएस के इलेक्‍ट प्रेसिडेंट जो बिडेन ने कहा, पिछले हफ्ते, हमने अपने लोकतंत्र पर एक अभूतपूर्व हमला देखा. यह हमारे राष्ट्र के 244 साल के इतिहास में देखी गई किसी भी चीज के विपरीत था. Also Read - डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ आज पारित हो सकता है महाभियोग प्रस्ताव, अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने 25वां संशोधन लागू करने की पेंस से की अपील

बिडेन ने कहा, इस आपराधिक हमले की योजना बनाई गई और समन्वय किया गया. यह राजनीतिक चरमपंथियों और घरेलू आतंकवादियों द्वारा किया गया था, जिन्हें राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा इस हिंसा के लिए उकसाया गया था. यह अमेरिका के खिलाफ एक सशस्त्र विद्रोह था और जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए. Also Read - US Capitol Violence: Facebook, Twitter के बाद अब Youtube ने सस्पेंड किया ट्रंप का चैनल

हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (निचले सदन) में प्रस्ताव के पक्ष में 232 और विरोध में 197 वोट किए गए. ट्रंप के खिलाफ रिपब्‍लिक पार्टी के भी करीब 10 सांसदों ने वोट किया.

कोई भी कानून से ऊपर नहीं:  स्पीकर नैन्सी पेलोसी 
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के महाभियोग के बाद अमेरिकी सदन की स्पीकर नैन्सी पेलोसी ने कहा, आज द्विदलीय तरीके से सदन ने प्रदर्शित किया कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है. संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति भी नहीं. बता दें कि ट्रंप पर देश के खिलाफ विद्रोह भड़काने का आरोप लगाया गया है.

ट्रंप को अब सीनेट में मुकदमे का सामना करना है
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलापु कैपिटल हिल में पिछले सप्ताह की घातक हिंसा के लिए “उकसाने” के लिए अमेरिकी प्रतिनिधि सभा द्वारा महाभियोग चलाने का प्रस्‍ताव पास किया गया. इससे ट्रंप पहले ऐसे अमेरिकी राष्ट्रपति बने, जिन्हें दो बार महाभियोग लगाया गया. विशेष रूप से ट्रंप को अब सीनेट में मुकदमे का सामना करना है.

मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कभी भी राजनीतिक हिंसा का समर्थन नहीं कर सकता: ट्रंप 
वही, डोनाल्‍ड ट्रंप ने अपने पक्ष में कहा है कि भीड़ की हिंसा सब कुछ के खिलाफ जाती है. मुझे विश्वास है और हमारे आंदोलन के लिए सब कुछ खड़ा है. मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कभी भी राजनीतिक हिंसा का समर्थन नहीं कर सकता, मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कानून के प्रवर्तन का अनादर नहीं कर सकता था.

हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते : ट्रंप 
ट्रंप ने कहा, मेरा कोई भी सच्चा समर्थक कभी भी अपने साथी अमेरिकियों को धमकी या परेशान नहीं कर सकता. यदि आप इनमें से कोई भी ऐसा काम करते हैं, जिसे आप हमारे आंदोलन का समर्थन नहीं कर रहे हैं, तो आप इस पर और हमारे देश पर हमला कर रहे हैं. हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते.

हिंसा का कोई औचित्य नहीं है : निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति
निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, हमने सर्पिल तरीके से नियंत्रण से बाहर राजनीतिक हिंसा देखी है, हमने बहुत सारे दंगे, भीड़, धमकी और विनाश के कार्य देखे हैं. इसे रोकना होगा. चाहे आप राइट या लेफ्ट पर हों, डेमोक्रेट या रिपब्लिकन हों, हिंसा का कोई औचित्य नहीं है.


मने अपने लोकतंत्र पर एक अभूतपूर्व हमला देखा : इलेक्‍ट प्रेसिडेंट जो बिडेन
यूएस इलेक्‍ट प्रेसिडेंट जो बिडेन ने कहा, पिछले हफ्ते, हमने अपने लोकतंत्र पर एक अभूतपूर्व हमला देखा. यह हमारे राष्ट्र के 244 साल के इतिहास में देखी गई किसी भी चीज के विपरीत था. बिडेन ने कहा, इस आपराधिक हमले की योजना बनाई गई और समन्वय किया गया. यह राजनीतिक चरमपंथियों और घरेलू आतंकवादियों द्वारा किया गया था, जिन्हें राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा इस हिंसा के लिए उकसाया गया था. यह अमेरिका के खिलाफ एक सशस्त्र विद्रोह था और जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए.