वॉशिंगटन: अमेरिका और चीन के रिश्ते इतिहास में पहली बार बद् से बद्तर होते जा रहे हैं. ऐसे में भारत के बाद अब अमेरिका भी चीनी सोशल मीडिया ऐप टिकटॉक को बैन करने के बारे में सोच विचार करने में जुट चुका है. बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप कई बार अपनी मीटिंग्स और जनता को संबोधित करते वक्त चीन को कोरोना महामारी का जिम्मेदार ठहरा चुके हैं. ट्रंप ने बताया कि अमेरिका में भी टिक टॉक पर बैन लगाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि हमारा प्रशासन टिक टॉक के खिलाफ एक्शन लेने को लेकर मूल्यांकन कर रहा है. Also Read - H-1B वीजाधारकों को मिली राहत, ट्रंप प्रशासन ने बदला फैसला, कुछ शर्तों के साथ अमेरिका में मिलेगी नौकरी

बता दें कि बीते दिनों खबरें आई थीं कि टिकटॉक की पैरेंट कंपनी बाइट डांस टिकटॉक को माइक्रोसॉफ्ट को बेच सकती है और वह बातचीत भी कर रही है. ऐसे समय में ट्रंप ने बयान जारी करते हुए कहा कि हम इसपर नजर बनाए हुए हैं. हम इसे बैन भी कर सकते हैं. हमारे पास कई दूसरे विकल्प भी मौजूद है. हम देखेंगे कि क्या कर सकते हैं. Also Read - US Presidential elections 2020: जो बाइडेन ने भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार चुना

अन्य खबरों की मानें तो बाइटडांस टिकटॉक से खुद को अलग करने की घोषणा करने के बारे में सोच रहा है. साथ ही टिकटॉक को बेचने को लेकर भी लगातार खबरे सामने आ रही हैं. बता दें कि इस ऐप कंपनी पर चीनी अधिकारियों के साथ डाटा साझा करने का लगातार आरोप लगता रहा है. इस बाबत टिकटॉक का सभी सरकारों से कहना है कि वह किसी देश का डाटा चीन सरकार को नहीं देती है. Also Read - डोनाल्ड ट्रंप प्रेस को कर रहे थे संबोधित, तभी White House के बाहर चली गोलियां