वाशिंगटनः अमेरिका इस समय कोरोना के कोहराम में फंसा हुआ है. इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप(Donald Trump) ने एक बड़ा फैसला लिया है. ट्रंप  ने कहा है कि वह कोरोना वायरस(Coronavirus) महामारी के चलते अमेरिका में अप्रवासन को अस्थाई रूप से बंद करने के विशेष आदेश पर दस्तखत करेंगे. Also Read - HC ने दिल्‍ली सरकार से पूछा, क्या AAP MLA इमरान हुसैन को ‘रिफिलर’के जरिए ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई?

आपको बता दें कि जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार अमेरिका (America) में कोरोना वायरस संक्रमण से 42,094 लोगों की मौत हो चुकी है और साढ़े सात लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं. Also Read - Aligarh Muslim University में कोरोना के नए वेरिएंट की आशंका! 26 प्रोफेसरों की मात्र 20 दिन में मौत

ट्रंप ने सोमवार रात ट्वीट किया, ‘‘अदृश्य दुश्मन के हमले के मद्देनजर, साथ ही हमारे महान अमेरिकी नागरिकों की नौकरियों को बचाने के लिए, मैं संयुक्त राष्ट्र में अस्थाई रूप से अप्रवासन को निलंबित करने के लिए एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर करूंगा.’’ ट्रम्प के कार्यकारी आदेश का ब्यौरा फिलहाल सामने नहीं आया है. उन्होंने यह भी बताया कि वह इस आदेश पर कब हस्ताक्षर करेंगे.

ट्रंप ने अप्रवासन वीजा को निलंबित करने की बात की है, हालांकि गौरतलब है कि भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच लोकप्रिय एच-1बी वीजा एक गैर-अप्रवासी वीजा है. चूंकि ट्रंप ने यह तर्क दिया है कि अमेरिकी नागरिकों की नौकरियों की रक्षा करने की जरूरत है, ऐसे में गैर-अप्रवासी वीजा भी उनके निशाने पर आ सकता है.

कोरोना वायरस महामारी के चलते अमेरिका में रिकॉर्ड संख्या में छंटनी हो रही है और पिछले सप्ताह 2.2 करोड़ अमेरिकी नागरिकों ने बेरोजगारी लाभ के लिए आवेदन किया है. हाल ही में कुछ दिन पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस खतरनाक वायरस के लिए चीन को चेतावनी भी दी थी.