वॉशिंगटन/ सोल: यूएस प्रेसिंडेट डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को कहा कि नॉर्थ कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ 12 जून को सिंगापुर में शिखर वार्ता के लिए स्थितियां अनुकूल हो रही हैं. व्हाइट हाउस में ट्रंप ने कहा, ”यह बहुत अच्छी तरह से चल रहा है. हम 12 जून को सिंगापुर में होने वाली शिखर वार्ता को लेकर आशान्वित हैं. इसमें बदलाव नहीं आया है.” बता दें कि अमेरिकी प्रेसिडेंट का ये बयान नॉर्थ कोरिया के किम जोंग उन और साउथ कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई इन की अचानक हुई बैठक के बाद आया है.

ट्रंप ने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ बैठक की उम्मीदें फिर से जगा दी हैं. ट्रंप ने कहा की हम 12 जून को सिंगापुर में मिलने पर विचार कर रहे हैं. इस मुलाकात की तारीख और स्थान में कोई बदलाव नहीं हुआ है.

पहले मीटिंग को अचानक रद्द किया था
यूएस प्रेसिंडेट ट्रम्प ने बीते गुरुवार को नॉर्थ कोरिया से खुली शुत्रतुता का हवाला देते हुए सिंगापुर में किम के साथ 12 जून को होने वाली मीटिंग को रद्द कर कर दिया था. हालाकि, उन्होंने 24 घंटे के भीतर इस पर अपना फैसला बदला और कहा कि उत्तरी कोरियाई अधिकारियों के साथ सार्थक बातचीत के बाद शिखर वार्ता अब भी हो सकती है.

सद्भावना की बातें
प्रेसिंडेट ट्रंप ने कहा, जब हम बात कर रहे हैं इस वक्त भी वहां बैठकें हो रही हैं. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि वहां बहुत सारी सद्भावना है. उनकी टिप्पणी नॉथ कोरिया की उस टिप्पणी के बाद आई है, जिसमें उसने कहा है कि किम शिखर वार्ता के लिए दृढ़ हैं.

सीमावर्ती गांव में औचक मुलाकात
किम जोंग उन और मून जे इन के बीच शनिवार को कोरिया के सीमावर्ती गांव पनमुनजोम में औचक मुलाकात हुई. इससे पहले दोनों नेताओं के बीच पहली ऐतिहासिक मुलाकात पनमुनजोम में ही 27 अप्रैल को हुई थी.

मून के बयान के बाद ट्रंप का रुख बदला
सीएनएन के मुताबिक, ट्रंप ने साउथ कोरिया के प्रेसिडेंट मून जे इन की किम जोंग इन के साथ औचक मुलाकात के बाद उनके पहले सार्वजनिक संबोधन के बाद शनिवार देर रात ओवल ऑफिस में यह बयान दिया. मून जे इन ने अपने संबोधन में कहा था कि किम जोंग अभी भी परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर प्रतिबद्ध हैं और ट्रंप से मुलाकात करना चाहते हैं.

मून ने कहा- ऐतिहासिक अवसर
साउथ कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई इन ने नॉर्थ कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ अचानक हुई अपनी बैठक के बाद कहा कि उत्तर कोरिया के नेता का मानना है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ होने वाली बैठक दशकों लंबे तनाव को खत्म करने के लिए ऐतिहासिक अवसर साबित होगी.

शांति में सहयोग करना चाहते हैं किम 
मून ने कहा, ”किम उत्तर कोरिया-अमेरिका के बीच सफल शिखर वार्ता के जरिए युद्ध और तनाव की स्थिति को समाप्त करना चाहते हैं और शांति और समृद्धि में सहयोग करना चाहते हैं.” दक्षिण कोरिया के नेता मून ने कहा है कि वह और नॉर्थ कोरिया के नेता इस पर सहमत हुए हैं कि अगर जरूरत पड़ी तो वह निजी रूप से मिलेंगे या बात करेंगे.

दुनिया को चौंकाया था
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने किम के साथ अपनी बैठक रद्द करने की घोषणा करके दुनिया भर को चौंका दिया था. लेकिन इस घोषणा के 24 घंटे के भीतर ही उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के अधिकारियों से बातचीत के बाद लगा कि अब भी यह शिखर वार्ता हो सकता है. (इनपुट- एजेंसी)