क्यूबेक सिटी: यूएस प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप व्यापार और नॉर्थ अमेरिका फ्री ट्रेड समझौता (नाफ्टा) जैसे मुद्दों पर कनाडा के साथ तनाव के बीच शनिवार को कनाडा की क्यूबेक सिटी में आयोजित जी-7 सम्मलेन से सिंगापुर के लिए रवाना हो गए जहां वह 12 जून को उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग-उन से मुलाकात करेंगे. ट्रंप जी7 सम्मलेन से समय से पहले ही प्रस्थान कर लिया. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का कहना है कि वह अब कनाडाई पीएम के ‘झूठे वक्तव्य’ के बाद जी -7 संयुक्त वक्तव्य का समर्थन नहीं करते हैं.

राष्ट्रपति ट्रंप के साथ सिंगापुर के लिए रवाना हुए उनके प्रतिनिधिमंडल में व्हाइट हाउस के स्टाफ प्रमुख जॉन केली और ट्रंप के आर्थिक सलाहकार जॉन बोल्टन शामिल हैं.

किम के साथ मुलाकात 
ट्रंप ने उड़ान के दौरान ट्वीट किया कि वह किम के साथ मुलाकात को लेकर आशावादी हैं. उन्होंने कहा, मैं सिंगापुर के रास्ते में हूं, जहां हमारे पास उत्तर कोरिया और दुनिया के लिए वास्तव में एक शानदार परिणाम हासिल करने का मौका है. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें लगता है कि यह मौका बेकार नहीं जाएगा.

ट्रंप नेे धमकी दी
जी7 सम्मेलन के दौरान कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो और ट्रंप के बीच तनाव देखने को मिला. अमेरिकी राष्ट्रपति नाफ्टा के हर पांच साल पर स्वत: भंग किए जाने पर जोर देते रहे और धमकी दी कि अमेरिका उन देशों के साथ व्यापार बंद कर देगा,जो उसके निर्यात पर सीमा शुल्क लगाते हैं.

शुल्क लगाने की शिकायत 
कनाडा के पीएम ट्रूडो ने कहा कि यह बात जानते हुए कि उनकी सरकार ने अमेरिका से कनाडाई स्टील और एल्यूमिनीयम पर कड़े सीमा शुल्क लगाने की शिकायत की थी, बावजूद इसके राष्ट्रपति जो कह रहे हैं उसे कहते रहेंगे. उन्होंने कहा, मैंने राष्ट्रपति से यह स्पष्ट कर दिया है कि हम (जवाब में सीमा शुल्क लागू करना) ऐसा कुछ करना पसंद नहीं करते, लेकिन यह कुछ ऐसा है, जिसे हम निश्चित रूप से करेंगे.”

कनाडाई विनम्र लेकिन पीछे नहींं  किया जाए
प्रधानमंत्री ट्रूडो ने कहा, “कनाडाई विनम्र और विवेकशील होते हैं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि उन्हें पीछे कर दिया जाए.”

(इनपुट- एजेंसी)