वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी है, जिसके तहत दक्षिण पश्चिमी सीमा पर तैनात अमेरिकी सैनिकों को नए अधिकार दिए गए हैं. पेंटागन का कहना है कि प्रवासियों की हिंसा से सीमा शुल्क एवं सीमा सुरक्षा (सीबीपी) के कर्मियों की रक्षा के लिए दक्षिण पश्चिम सीमा पर तैनात अमेरिकी सैनिकों को नए अधिकार देने के लिए समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी गई है. Also Read - Hydroxychloroquine को लेकर भारत को धमकाने वाले ट्रंप के लिए आखिर क्यों है ये दवा अहम, बताई ये वजह

हालांकि अमेरिका के इस कदम की वहां के नागरिक संगठनों द्वारा पुरजोर आलोचना की जा रही है. Also Read - छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का दावा, कहा- ट्रंप की भारत यात्रा उनके चुनाव अभियान का है हिस्सा

Also Read - ट्रंप की बढ़ी मुश्किलें,अब सीनेट में चलेगी महाभियोग की कार्यवाही 

मिशेल ओबामा की किताब ‘Becoming’ ने तोड़े बिक्री के रिकॉर्ड, एक हफ्ते में बिक गईं 14 लाख से अधिक प्रतियां

बल का प्रयोग की भी अनुमति

रक्षा विभाग की प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल मिशेल बाल्डान्जा ने बुधवार को सीएनएन को कहा कि पेंटागन को ज्ञापन मिला है. इस ज्ञापन के मुताबिक, व्हाइट हाउस सैनिकों को भीड़ को नियंत्रित करने, अस्थाई तौर पर हिरासत में रखने और सरसरी तलाशी जैसी गतिविधियों की मंजूरी देता है. इतना ही नहीं जरूरत पड़ने पर बल का प्रयोग करने की भी अनुमति दी गई है. इस मेमो पर व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ जॉन केली के हस्ताक्षर हैं. इसमें कहा गया है कि अमेरिकी सैनिक बिना राष्ट्रपति के दिशा निर्देशों के गिरफ्तारी, तलाशी और जब्ती जैसी गतिविधियां नहीं करेंगे.(इनपुट एजेंसी)

कोर्ट ने प्रेसिडेंट डोनाल्‍ड ट्रंप को अवैध प्रवासियों के मुद्दे पर दिया ये झटका