वाशिंगटन: फ्लोरिडा स्कूल में हुई गोलीबारी की घटना पर बोलते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि यदि वह निहत्थे होते तो भी गोलीबारी के दौरान स्कुल में चले जाते. अपने आवास में देश के गर्वनरों से बैठक के दौरान ट्रंप ने कहा,‘‘ मेरा वाकई यह मानना है कि मैं भाग कर वहां जाता, चाहे तब मेरे पास कोई हथियार नहीं होता तो भी. मेरा खयाल है कि इस कमरे में मौजूद ज्यादातर लोग यहीं करते…क्योंकि मैं आप में से अधिकतर को जानता हूं. लेकिन उन लोगों ने जो किया वह निंदनीय है.’’

वह उस सशस्त्र उप शेरिफ की आलोचना कर रहे थे जो हमले के वक्त स्कूल में ड्यूटी पर था लेकिन उसने बंदूकधारी का सामना नहीं किया. इस महीने की शुरुआत में फ्लोरिडा के स्कूल में हुई गोलीबारी की घटना में 17 लोग मारे गए थे जिनमें से ज्यादातर छात्र थे.

कुछ दिनों पहले ट्रम्प ने ऐसे हादसे रोकने के लिए स्कूल में शिक्षकों को बंदूक देने की पैरवी की थी . ट्रंप ने स्कूल में इस तरह की घटनाओं से बचने के लिए स्कूली शिक्षकों एवं कर्मचारियों के पास बंदूक रखने के प्रति समर्थन जताया था. ट्रंप ने कहा, “यदि आपके शिक्षक के पास बंदूक होती, तो वह इस हमले को बहुत जल्दी खत्म कर सकते थे.” राष्ट्रपति ने कहा, “यकीनन, उन्हें शिक्षकों को बंदूक रखने होंगे, जो इसे चलाने में निपुण हैं.”

भाषा इनपुट