मॉस्को: यूक्रेन की सीमा (Ukrainian border) पर रूस के सैनिकों (Russian troop) की तैनाती को लेकर अमेरिका (US) और रूस ( Russia) के बीच बढ़ते तनाव के बाद मंगलवार को अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (US President Joe Biden) और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) टेलीफोन पर बातचीत करेंगे. क्रेमलिन के प्रवक्ता दमित्री पेस्कोव ने शनिवार को इसकी पुष्टि की और कहा कि बातचीत शाम में होगी.Also Read - कोई नहीं है टक्कर में, दुनिया के नंबर वन नेता हैं पीएम मोदी, बाइडन-जॉनसन सब रह गए पीछे, देखें तस्वीरें.

Also Read - 5G Effect On Aviation: अमरीका में 5G सेवाओं को लेकर Aviation सेक्टर परेशान | हजारों उड़ानें रद्द होने का खतरा

रूस इस बात पर अडिग है कि अमेरिका गारंटी दे कि यूक्रेन को नाटो सैन्य गठबंधन में शामिल नहीं किया जाएगा. बाडइन प्रशासन के एक अधिकारी के अनुसार, अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने पता लगाया है कि रूस ने यूक्रेन के साथ लगती सीमा पर करीब 70 हजार सैनिकों की तैनाती की है और अगले वर्ष की शुरुआत में उसने संभावित आक्रमण की योजना बनाई है. Also Read - Covid 19 USA: अमेरिका में कोरोना से 8.51 लाख लोग एक दिन में संक्रमित, मदद के लिए भेजी गई अमेरिकी सेना

अमेरिका के अधिकारियों और पूर्व अमेरिकी राजनयिकों का कहना है कि रूस के राष्ट्रपति जहां संभावित आक्रमण की तैयारियां कर रहे हैं. वहीं, यूक्रेन की सेना पहले की तुलना में ज्यादा हथियारबंद एवं तैयार है और पश्चिमी देशों द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने से रूस की अर्थव्यवस्था को गंभीर नुकसान पहुंचेगा.

यूक्रेन के अधिकारियों का कहना है कि रूस अगले महीने आक्रमण कर सकता है. यूक्रेन के रक्षा मंत्री ओलेक्सी रेजनिकोव ने कहा कि यूक्रेन और क्रीमिया के पास रूस के सैनिकों की अनुमानित संख्या 94,300 है और चेतावनी दी कि जनवरी में युद्ध भड़क सकता है. क्रेमलिन ने शुक्रवार को कहा कि बाइडन के साथ फोन पर बातचीत में पुतिन इस बात की गारंटी चाहेंगे कि यूक्रेन को नाटो के विस्तार में शामिल नहीं किया जाए.

यूक्रेन पर हमले को लेकर बाइडन ने पुतिन को चेताया था
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई को “बेहद कठिन” बनाने का शुक्रवार को संकल्प लिया और कहा कि उनका प्रशासन रूस के आक्रमण को रोकने के लिए व्यापक कदम उठा रहा है. बाइडन ने यूक्रेन सीमा पर रूस द्वारा सैनिकों की तैनाती बढ़ाने को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच ये चेतावनी दी थी.

पुतिन-बाइडन की बातचीत कराने की व्यवस्था की गई
बाइडन ने पत्रकारों से कहा कि वह व्यापक और सार्थक कदम उठा रहे हैं, जिससे पुतिन के लिए आगे बढ़ना और वह करना बहुत बहुत मुश्किल हो जाएगा, जिसे लेकर लोग चिंतित हैं. इस तरह के संकेत भी हैं कि व्हाइट हाउस और क्रेमलिन अगले हफ्ते बाइडन और पुतिन के बीच बातचीत कराने की व्यवस्था कर रहे हैं. पुतिन के विदेश मामलों के सलाहकार यूरी उशकोव ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा था कि आगामी दिनों में पुतिन-बाइडन की बातचीत कराने की व्यवस्था की गई है, लेकिन तारीख का ऐलान तब किया जाएगा जब मॉस्को और वाशिंगटन विवरण को अंतिम रूप दे देंगे. रूस ने कहा कि तारीख तय हो गई है लेकिन इसकी घोषणा करने से इनकार कर दिया है.