वाशिंगटन: अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने मंगलवार को कहा कि शीर्ष ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या करके अमेरिका ने ‘सही किया है.’’ पोम्पिओ ने ट्रम्प के फैसले को पूरी तरह से कानूनी और तेहरान की दुर्भावनापूर्ण गतिविधि से पैदा खतरे से मुकाबला करने की अमेरिका की रणनीति के अनुरूप बताते हुए इसका बचाव किया.

पोम्पिओ ने विदेश मंत्रालय में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि अगर ईरान के खिलाफ बदले की कार्रवाई की जरूरत पड़ी, तो अमेरिका युद्ध के अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पालन करेगा. उनका बयान ऐसे वक्त में आया है जब ट्रंप ने कहा है कि अगर ईरान ने सुलेमानी का बदला लेने के लिए हमला किया तो अमेरिका उसके सांस्कृतिक स्थलों पर हमला करेगा.

ईरान में जनरल सुलेमानी के जनाजे के जुलूस में भगदड़, 50 से अधिक लोगों की मौत

इसी बीच अमेरिका के साथ तनाव के चलते ईरान ने एक बार फिर अमेरिकी ठिकानों पर हमला किया. ईरान ने इराक में अमेरिका के सैन्य ठिकानों पर कम से कम 12 मिसाइलें दागी हैं. ईरान ने बगदाद में ऐन अल-असद समेत अमेरिका के दो सैन्य ठिकानों पर मिसाइल से हमला किया है. ईरान के इन हमलों को उसके कमांडर कासिम सुलेमानी की हत्या के बदले के तौर पर देखा जा रहा है.

इस हमले की पुष्टि करते हुए अमेरिका ने कहा कि इराक में उसके दो सैन्य ठिकानों को मिसाइल से निशाना बनाया गया. बता दें कि ईरान ने यह हमला अमेरिका द्वारा जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या किए जाने के बदले में किया है. जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या इराक के बगदाद में हुए अमेरिकी हवाई हमले में हुई थी.