काबुल: पेंटागन के चीफ पैट शनाहान अमेरिकी कमांडरों और अफगानिस्तानी नेताओं से मुलाकात करने अचानक सोमवार को अफगानिस्तान पहुंचे. यह दौरा ऐसे समय हो रहा है जब तालिबान के साथ शांति वार्ता बढ़ाने के प्रयास तेज हैं. हालांकि तालिबानी चरमपंथियों के हमले लगातार जारी हैं. Also Read - अफगानिस्तान के सैन्य शिविर में बड़ा आतंकी हमला, 30 पुलिसकर्मियों की मौत, 24 घायल

गतिरोध समाप्त करने की कोशिश

हाल ही में कार्यवाहक रक्षा मंत्री नियुक्त किए गए पैट शनाहान ने कहा कि उन्हें सैनिकों की संख्या कम करने के संबंध में कोई आदेश नहीं दिया गया है. हालांकि अधिकारियों का कहना है कि तालिबान के साथ समन्वेशी शांति बातचीत की मांगों की सूची में यह मांग शीर्ष पर है. शनाहान ने कहा कि वह इस बात से खुश हैं कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन पिछले 17 वर्ष से जारी युद्ध को खत्म करने के लिए सभी संभावनाएं तलाश रहा है. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अफगानिस्तान में शांति की शर्तों पर अभी निर्णय लिया जाना है. गौरतलब है कि तालिबान राष्ट्रपति अशरफ गनी की सरकार को अवैध करार देते हुए उनके साथ बातचीत से इनकार कर चुका है लेकिन वाशिंगटन इस गतिरोध को समाप्त करने की कोशिश कर रहा है.

पाकिस्तान महत्वपूर्ण पनाहगाह, सत्ता में आए तो भाई जैसा बर्ताव रखेंगे: तालिबान

वाशिंगटन से उनके साथ यात्रा कर रहे पत्रकारों से शानहान ने कहा, ‘‘अफगानिस्तान के लोगों को इस बात का निर्णय करना है कि अफगानिस्तान कैसा दिखे. यह अमेरिका नहीं अफगानिस्तान के बारे में है.’’

अफगानिस्तान में शांति वार्ता के लिए प्रशासन के विशेष दूत जलमै खलीलजाद ने शुक्रवार को कहा था कि वार्ता अभी शुरुआती स्तर पर है और उन्हें जुलाई तक समझौता होने की उम्मीद है. अफगानिस्तान में जुलाई में ही आम चुनाव होने हैं.(इनपुट एजेंसी)

अफगानिस्तान: तालिबान के हमले में 11 पुलिसकर्मियों समेत 22 लोग मारे गए