US Violence: अमेरिका में चल रही सियासी खींचतान के बीच ट्रंप समर्थकों ने व्‍हाइट हाउस और कैपिटल बिल्डिंग के बाहर जबरदस्‍त हंगामा किया है. इस दौरान ट्रंप समर्थकों की पुलिस के साथ हिंसक झड़प भी हुई है जिसमें चार लोगों की मौत की खबर है. इस हिंसक हंगामे की पूरी दुनिया में निंदा हो रही है. वहीं मामले के बाद वॉशिंगटन में 15 दिनों की पब्लिक इमर्जेंसी लगा दी गई है.Also Read - Ukraine को लेकर US- Russia के बीच बढ़ा तनाव, जो बाइडन, पुतिन अगले हफ्ते वार्ता करेंगे

ऐसा नहीं है कि इससे पहले अमेरिकी कैपिटल परिसर पर हमले या हिंसा नहीं हुई, लेकिन इस तरह की हिंसा पहले कभी नहीं देखी गई. 220 सालों में इस इमारत पर गोलीबारी भी हुई, बम भी फोड़े गए. लेकिन इतनी भारी मात्रा में हल्ला मचाती भीड़, संसद के खंबो पर चढ़ती, हिंसा मचाती भीड़ का ये कृत हैरान कर देने वाला है. Also Read - World News: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की बहस से पहले संक्रमित थे ट्रंप, मगर फिर भी भाग लिया- पूर्व सहयोगी की किताब में दावा

Also Read - The Summit for Democracy: बाइडेन ने लोकतंत्र पर चर्चा के लिए 110 देशों को बुलाया, India के सिर्फ दो पड़ोसी शामिल

220 सालों में ऐसा पहली बार देखा गया, जब हिंसक भीड़ ने हमलावर का रूप ले लिया है. इससे पहले अमेरिकी कैपिटल में और भी कई हिंसक झड़पें देखी है,इससे खतरनाक हमले भी देखे हैं, लेकिन ऐसा ये पहली बार ही देखा जा रहा है.

-1812 के युद्ध में ब्रिटिश सेना ने इसे जलाने की कोशिश की थी, जिसके बाद हिंसा भड़की थी, जिसके बाद ये इमारत बस एक “सबसे शानदार खंडहर” बन गई थी. इस इमारत पर कई बार बमबारी की जा चुकी है, कई गोलीकांड हुए हैं.

-साल 1950 में चार प्यूर्टो रिकान राष्ट्रवादियों ने द्वीप के झंडे को उखाड़ फेंका था और “फ्रीडम फॉर प्यूर्टो रिको” चिल्लाते हुए सदन की विजिटर गैलरी से लगभग 30 गोलिया चलाईं थीं, जिसमें पांच कांग्रेसी घायल हो गए थे.

-1915 में, एक जर्मन व्यक्ति ने सीनेट के स्वागत कक्ष में डायनामाइट की तीन छड़ें लगाई, आधी रात को जब कोई आस-पास नहीं था.

-1971 में लाओस पर अमेरिकी बमबारी का विरोध करने के लिए एक विस्फोटक स्थापित किया, और 19 मई को कम्युनिस्ट आंदोलन ने ग्रेनाडा के आक्रमण के जवाब में 1983 में सीनेट पर बमबारी की थी.

-कैपिटल पर सबसे घातक हमला 1998 में हुआ, जब एक मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति ने एक चौकी पर गोलीबारी की और दो कैपिटल पुलिस अधिकारियों की हत्या कर दी थी.

– 1835 में, एक विक्षिप्त घर के चित्रकार ने इमारत के बाहर राष्ट्रपति एंड्रयू जैक्सन पर दो पिस्तौल से गोली चलाने की कोशिश की, लेकिन बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया गया था.